विष्णु जी की आरती | Vishnu Ji Ki Aarti PDF in Hindi

विष्णु जी की आरती | Vishnu Ji Ki Aarti Hindi PDF Download

विष्णु जी की आरती | Vishnu Ji Ki Aarti in Hindi PDF download link is given at the bottom of this article. You can direct download PDF of विष्णु जी की आरती | Vishnu Ji Ki Aarti in Hindi for free using the download button.

Tags:

विष्णु जी की आरती | Vishnu Ji Ki Aarti Hindi PDF Summary

नमस्कार पाठकों, इस लेख के माध्यम से आप विष्णु जी की आरती / Vishnu Ji Ki Aarti PDF प्राप्त कर सकते हैं। भगवान् विष्णु की यह आरती उनको समर्पित सर्वाधिक लोकप्रिय आरतियों में से एक हैं। विष्णु भगवान् का पूजन गुरुवार के दिन किया जाता है। बहुत से क्षेत्रों में गुरुवार को बृहस्पतिवार के नाम से भी जाना जाता है।

भगवान् विष्णु जी का पूजन करने से विवाह सम्बंधित समस्याओं का नाश हो जाता है। यदि आपके जीवन में किसी भी प्रकार की समस्या बहुत लम्बे समय से चल रही है, तो संकल्प के साथ श्री विष्णु चालीसा का पाठ करें तथा चालीसा का पाठ संपन्न होने पर पूर्ण भक्तिभाव से श्री विष्णु जी की आरती अवश्य करें।

विष्णु जी की आरती हिंदी में | Lord Vishnu Aarti Lyrics in Hindi PDF

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी ! जय जगदीश हरे।

भक्त जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥

ॐ जय जगदीश हरे।

जो ध्यावे फल पावे, दुःख विनसे मन का।

स्वामी दुःख विनसे मन का।

सुख सम्पत्ति घर आवे, कष्ट मिटे तन का॥

ॐ जय जगदीश हरे।

मात-पिता तुम मेरे, शरण गहूँ मैं किसकी।

स्वामी शरण गहूँ मैं किसकी।

तुम बिन और न दूजा, आस करूँ जिसकी॥

ॐ जय जगदीश हरे।

तुम पूरण परमात्मा, तुम अन्तर्यामी।

स्वामी तुम अन्तर्यामी।

पारब्रह्म परमेश्वर, तुम सबके स्वामी॥

ॐ जय जगदीश हरे।

तुम करुणा के सागर, तुम पालन-कर्ता।

स्वामी तुम पालन-कर्ता।

मैं मूरख खल कामी, कृपा करो भर्ता॥

ॐ जय जगदीश हरे।

तुम हो एक अगोचर, सबके प्राणपति।

स्वामी सबके प्राणपति।

किस विधि मिलूँ दयामय, तुमको मैं कुमति॥

ॐ जय जगदीश हरे।

दीनबन्धु दुखहर्ता, तुम ठाकुर मेरे।

स्वामी तुम ठाकुर मेरे।

अपने हाथ उठा‌ओ, द्वार पड़ा तेरे॥

ॐ जय जगदीश हरे।

विषय-विकार मिटा‌ओ, पाप हरो देवा।

स्वमी पाप हरो देवा।

श्रद्धा-भक्ति बढ़ा‌ओ, सन्तन की सेवा॥

ॐ जय जगदीश हरे।

श्री जगदीशजी की आरती, जो कोई नर गावे।

स्वामी जो कोई नर गावे।

कहत शिवानन्द स्वामी, सुख संपत्ति पावे॥

ॐ जय जगदीश हरे।

Shri Vishnu Aarti Lyrics in English

Om Jai Jagadish Hare, Swami Jai Jagadish Hare

Bhakt Jano Ke Sankat, Daas Jano Ke Avgun,

Kshan Mein Door Kare, Om Jai Jagadish Hare |

Jo Dhyaave Phal Paave, Dukh Binse Mann Kaa,

Swami Dukh Bin Se Man Kaa,

Sukh Sampati Ghar Ave, Bansari wala Ghar Ave,

Kasht Mite Tan Kaa, Om Jai Jagadish Hare |

Maat Pita Tum Mere, Sharan Gahoon Main Kiski,

Swami Sharan Gahoon Main Kiski,

Tum Bin Aur Na Dooja, Prabhu Bin Aur Na Dooja,

Aas Karoon Mein Jiski, Om Jai Jagadish Hare |

Tum Pooran Paramatam, Tum Antaryami,

Swami Tum Antaryami,

Paar Brahm Parameshwar, Paar Brahm Parameshwar,

Tum Sabke Swami, Om Jai Jagadish Hare |

Tum Karuna Ke Saagar, Tum Paalan Karta,

Swami Tum Raksha Karta,

Main Moorakh Khal kaami, Main Sevak Tum Swami,

Kripa Karo Bharta, Om Jai Jagadish Hare

Tum Ho Ek Agochar, Sabke Praanpati,

Swami Sabke Praanpati, Kis Vidhi Miloon Dayamay,

Kis Vidhi Miloon Dayamay,

Tum Ko Main Kumati, Om Jai Jagadish Hare |

Deen Bandhu Dukh Harta, Thaakur Tum Mere,

Swaami Rakhshak Tum Mere,

Apne Haath Uthao, Apni Sharan Lagao,

Dwaar Padha Main Tere, Om Jai Jagadish Hare |

Vishay Vikaar Mitaao, Paap Haro Deva,

Swami Kasht Haro Deva,

Shraddha Bhakti Badhao, Shraddha Prem Badhao,

Santan Ki Seva, Om Jai Jagadish Hare |

Om Jai Jagadish Hare, Swami Jai Jagadish Hare,

Bhakt Jano Ke Sankat, Daas Jano Ke Avgun,

Kshan Mein Door Kare, Om Jai Jagadish Hare

You may also like :

You can download Vishnu Ji Ki Aarti PDF in Hindi by clicking on the following download button.

विष्णु जी की आरती | Vishnu Ji Ki Aarti pdf

विष्णु जी की आरती | Vishnu Ji Ki Aarti PDF Download Link

REPORT THISIf the download link of विष्णु जी की आरती | Vishnu Ji Ki Aarti PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If विष्णु जी की आरती | Vishnu Ji Ki Aarti is a copyright material Report This. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

RELATED PDF FILES

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *