श्री सीता चालीसा | Sita Chalisa PDF

श्री सीता चालीसा | Sita Chalisa PDF Download

श्री सीता चालीसा | Sita Chalisa PDF download link is given at the bottom of this article. You can direct download PDF of श्री सीता चालीसा | Sita Chalisa for free using the download button.

Tags:

श्री सीता चालीसा | Sita Chalisa PDF Summary

नमस्कार पाठकों, इस लेख के माध्यम से आप श्री सीता चालीसा / Sita Chalisa PDF प्राप्त कर सकते हैं। श्री सीता माता जी का हिन्दू धर्म में बहुत अधिक महत्व है। श्री सीता माता जी को भारत अत्यधिक महत्वपूर्ण रूप से पूजा जाता है। श्री सीता जी का जीवन संघर्षों से भरा हुआ था तथा उन्होंने अपने जीवन में कभी हार नहीं मानी।

यदि आप भी अपने जीवन में उत्पन होने वाले कष्टों व संघर्षों से मुक्ति पाना चाहते हैं तथा देवी श्री सीता माता की कृपा प्राप्त करना चाहते हैं तो श्री सीता चालीसा का पाठ अवश्य करें। यह बहुत ही मधुर चालीसा है जिसके गायन से केवल देवी सीता माता जी प्रसन्न होती हैं अपितु श्री राम जी भी अपनी कृपा करते हैं।

Shri Sita Chalisa Lyrics in Hindi PDF

॥ चौपाई ॥

राम प्रिया रघुपति रघुराई

बैदेही की कीरत गाई ॥

चरण कमल बन्दों सिर नाई,

सिय सुरसरि सब पाप नसाई ॥

जनक दुलारी राघव प्यारी,

भरत लखन शत्रुहन वारी ॥

दिव्या धरा सों उपजी सीता,

मिथिलेश्वर भयो नेह अतीता ॥

सिया रूप भायो मनवा अति,

रच्यो स्वयंवर जनक महीपति ॥

भारी शिव धनु खींचै जोई,

सिय जयमाल साजिहैं सोई ॥

भूपति नरपति रावण संगा,

नाहिं करि सके शिव धनु भंगा ॥

जनक निराश भए लखि कारन ,

जनम्यो नाहिं अवनिमोहि तारन ॥

यह सुन विश्वामित्र मुस्काए,

राम लखन मुनि सीस नवाए ॥

आज्ञा पाई उठे रघुराई,

इष्ट देव गुरु हियहिं मनाई ॥

जनक सुता गौरी सिर नावा,

राम रूप उनके हिय भावा ॥

मारत पलक राम कर धनु लै,

खंड खंड करि पटकिन भू पै ॥

जय जयकार हुई अति भारी,

आनन्दित भए सबैं नर नारी ॥

सिय चली जयमाल सम्हाले,

मुदित होय ग्रीवा में डाले ॥

मंगल बाज बजे चहुँ ओरा,

परे राम संग सिया के फेरा ॥

लौटी बारात अवधपुर आई,

तीनों मातु करैं नोराई ॥

कैकेई कनक भवन सिय दीन्हा,

मातु सुमित्रा गोदहि लीन्हा ॥

कौशल्या सूत भेंट दियो सिय,

हरख अपार हुए सीता हिय ॥

सब विधि बांटी बधाई,

राजतिलक कई युक्ति सुनाई ॥

मंद मती मंथरा अडाइन,

राम न भरत राजपद पाइन ॥

कैकेई कोप भवन मा गइली,

वचन पति सों अपनेई गहिली ॥

चौदह बरस कोप बनवासा,

भरत राजपद देहि दिलासा ॥

आज्ञा मानि चले रघुराई,

संग जानकी लक्षमन भाई ॥

सिय श्री राम पथ पथ भटकैं ,

मृग मारीचि देखि मन अटकै ॥

राम गए माया मृग मारन,

रावण साधु बन्यो सिय कारन ॥

भिक्षा कै मिस लै सिय भाग्यो,

लंका जाई डरावन लाग्यो ॥

राम वियोग सों सिय अकुलानी,

रावण सों कही कर्कश बानी ॥

हनुमान प्रभु लाए अंगूठी,

सिय चूड़ामणि दिहिन अनूठी ॥

अष्ठसिद्धि नवनिधि वर पावा,

महावीर सिय शीश नवावा ॥

सेतु बाँधी प्रभु लंका जीती,

भक्त विभीषण सों करि प्रीती ॥

चढ़ि विमान सिय रघुपति आए,

भरत भ्रात प्रभु चरण सुहाए ॥

अवध नरेश पाई राघव से,

सिय महारानी देखि हिय हुलसे ॥

रजक बोल सुनी सिय बन भेजी,

लखनलाल प्रभु बात सहेजी ॥

बाल्मीक मुनि आश्रय दीन्यो,

लवकुश जन्म वहाँ पै लीन्हो ॥

विविध भाँती गुण शिक्षा दीन्हीं,

दोनुह रामचरित रट लीन्ही ॥

लरिकल कै सुनि सुमधुर बानी,

रामसिया सुत दुई पहिचानी ॥

भूलमानि सिय वापस लाए,

राम जानकी सबहि सुहाए ॥

सती प्रमाणिकता केहि कारन,

बसुंधरा सिय के हिय धारन ॥

अवनि सुता अवनी मां सोई,

राम जानकी यही विधि खोई ॥

पतिव्रता मर्यादित माता,

सीता सती नवावों माथा ॥

॥ दोहा ॥

जनकसुत अवनिधिया राम प्रिया लवमात,

चरणकमल जेहि उन बसै सीता सुमिरै प्रात ॥

Shri Sita Mata Aarti Lyrics in Hindi

आरती श्री जनक दुलारी की ।

सीता जी रघुवर प्यारी की ॥

जगत जननी जग की विस्तारिणी,

नित्य सत्य साकेत विहारिणी,

परम दयामयी दिनोधारिणी,

सीता मैया भक्तन हितकारी की ॥

आरती श्री जनक दुलारी की ।

सीता जी रघुवर प्यारी की ॥

सती श्रोमणि पति हित कारिणी,

पति सेवा वित्त वन वन चारिणी,

पति हित पति वियोग स्वीकारिणी,

त्याग धर्म मूर्ति धरी की ॥

आरती श्री जनक दुलारी की ।

सीता जी रघुवर प्यारी की ॥

विमल कीर्ति सब लोकन छाई,

नाम लेत पवन मति आई,

सुमीरात काटत कष्ट दुख दाई,

शरणागत जन भय हरी की ॥

आरती श्री जनक दुलारी की ।

सीता जी रघुवर प्यारी की ॥

You may also like:

Dashamata Vrat Katha & Pooja Vidhi

Santoshi Mata Vrat Katha

Mata Ka Anchal

Renuka Mata Stotra

Tulsi Mata Ki Aarti

Gau Mata Ki Aarti

Mata Ke Bhajan

Parvati Mata Aarti

You can download Sita Chalisa PDF by clicking on the following download button.

श्री सीता चालीसा | Sita Chalisa pdf

श्री सीता चालीसा | Sita Chalisa PDF Download Link

REPORT THISIf the download link of श्री सीता चालीसा | Sita Chalisa PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If श्री सीता चालीसा | Sita Chalisa is a copyright material Report This. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

RELATED PDF FILES

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *