श्री गणेश चालीसा | Ganesh Chalisa PDF in Hindi

श्री गणेश चालीसा | Ganesh Chalisa Hindi PDF Download

श्री गणेश चालीसा | Ganesh Chalisa in Hindi PDF download link is given at the bottom of this article. You can direct download PDF of श्री गणेश चालीसा | Ganesh Chalisa in Hindi for free using the download button.

Tags:

श्री गणेश चालीसा | Ganesh Chalisa Hindi PDF Summary

नमस्कार पाठकों, इस लेख के माध्यम से आप गणेश चालीसा PDF / Ganesh Chalisa PDF in Hindi प्राप्त कर सकते हैं। भगवान श्री गणेश जी को हिन्दू सनातन धर्म में प्रथम पूज्य होने का वरदान प्राप्त है, अथार्त किसी भी प्रकार का हवन, पूजन आदि मांगलिक कार्य करने से पूर्व भगवान श्री गणेश जी का पूजन करना अनिवार्य है। इस पोस्ट से आप बड़ी आसानी से सिर्फ एक क्लिक में Ganesh Chalisa in Hindi PDF डाउनलोड कर सकते हैं।

श्री गणेश जी के भक्तगण उन्हें लंबोदर, विकट, विघ्न-नाश, एकदंत, कपिल, गजकर्णक, गणाध्यक्ष, भालचंद्र, गजानन, विनायक, धूम्रकेतु आदि भिन्न – भिन्न पवित्र नामों से पुकारते हैं। यदि आप श्री गणेश जी को सरलता से प्रसन्न करना चाहते हैं तो आपको नियमित रूप से श्री गणेश चालीसा का श्रद्धा भाव से पाठ करना चाहिए।

श्री गणेश चालीसा PDF | Ganesh Chalisa PDF in Hindi

दोहा

जय गणपति सदगुण सदन, कविवर बदन कृपाल।

विघ्न हरण मंगल करण, जय जय गिरिजालाल॥

चौपाई

जय जय जय गणपति गणराजू। मंगल भरण करण शुभः काजू॥

जै गजबदन सदन सुखदाता। विश्व विनायका बुद्धि विधाता॥

वक्र तुण्ड शुची शुण्ड सुहावना। तिलक त्रिपुण्ड भाल मन भावन॥

राजत मणि मुक्तन उर माला। स्वर्ण मुकुट शिर नयन विशाला॥

पुस्तक पाणि कुठार त्रिशूलं। मोदक भोग सुगन्धित फूलं॥

सुन्दर पीताम्बर तन साजित। चरण पादुका मुनि मन राजित॥

धनि शिव सुवन षडानन भ्राता। गौरी लालन विश्व-विख्याता॥

ऋद्धि-सिद्धि तव चंवर सुधारे। मुषक वाहन सोहत द्वारे॥

कहौ जन्म शुभ कथा तुम्हारी। अति शुची पावन मंगलकारी॥

एक समय गिरिराज कुमारी। पुत्र हेतु तप कीन्हा भारी॥

भयो यज्ञ जब पूर्ण अनूपा। तब पहुंच्यो तुम धरी द्विज रूपा॥

अतिथि जानी के गौरी सुखारी। बहुविधि सेवा करी तुम्हारी॥

अति प्रसन्न हवै तुम वर दीन्हा। मातु पुत्र हित जो तप कीन्हा॥

मिलहि पुत्र तुहि, बुद्धि विशाला। बिना गर्भ धारण यहि काला॥

गणनायक गुण ज्ञान निधाना। पूजित प्रथम रूप भगवाना॥

अस कही अन्तर्धान रूप हवै। पालना पर बालक स्वरूप हवै॥

बनि शिशु रुदन जबहिं तुम ठाना। लखि मुख सुख नहिं गौरी समाना॥

सकल मगन, सुखमंगल गावहिं। नाभ ते सुरन, सुमन वर्षावहिं॥

शम्भु, उमा, बहुदान लुटावहिं। सुर मुनिजन, सुत देखन आवहिं॥

लखि अति आनन्द मंगल साजा। देखन भी आये शनि राजा॥

निज अवगुण गुनि शनि मन माहीं। बालक, देखन चाहत नाहीं॥

गिरिजा कछु मन भेद बढायो। उत्सव मोर, न शनि तुही भायो॥

कहत लगे शनि, मन सकुचाई। का करिहौ, शिशु मोहि दिखाई॥

नहिं विश्वास, उमा उर भयऊ। शनि सों बालक देखन कहयऊ॥

पदतहिं शनि दृग कोण प्रकाशा। बालक सिर उड़ि गयो अकाशा॥

गिरिजा गिरी विकल हवै धरणी। सो दुःख दशा गयो नहीं वरणी॥

हाहाकार मच्यौ कैलाशा। शनि कीन्हों लखि सुत को नाशा॥

तुरत गरुड़ चढ़ि विष्णु सिधायो। काटी चक्र सो गज सिर लाये॥

बालक के धड़ ऊपर धारयो। प्राण मन्त्र पढ़ि शंकर डारयो॥

नाम गणेश शम्भु तब कीन्हे। प्रथम पूज्य बुद्धि निधि, वर दीन्हे॥

बुद्धि परीक्षा जब शिव कीन्हा। पृथ्वी कर प्रदक्षिणा लीन्हा॥

चले षडानन, भरमि भुलाई। रचे बैठ तुम बुद्धि उपाई॥

चरण मातु-पितु के धर लीन्हें। तिनके सात प्रदक्षिण कीन्हें॥

धनि गणेश कही शिव हिये हरषे। नभ ते सुरन सुमन बहु बरसे॥

तुम्हरी महिमा बुद्धि बड़ाई। शेष सहसमुख सके न गाई॥

मैं मतिहीन मलीन दुखारी। करहूं कौन विधि विनय तुम्हारी॥

भजत रामसुन्दर प्रभुदासा। जग प्रयाग, ककरा, दुर्वासा॥

अब प्रभु दया दीना पर कीजै। अपनी शक्ति भक्ति कुछ दीजै॥

॥दोहा॥

श्री गणेश यह चालीसा, पाठ करै कर ध्यान।

नित नव मंगल गृह बसै, लहे जगत सन्मान॥

सम्बन्ध अपने सहस्त्र दश, ऋषि पंचमी दिनेश।

पूरण चालीसा भयो, मंगल मूर्ती गणेश॥

श्री गणेश चालीसा पाठ के लाभ | Benefits of Reciting Ganesh Chalisa

  • गणेश चालीसा के पाठ से हमारे सभी कार्य बिना विघ्न के पूरे हो जाते है।
  • इसे पढ़ने से हमे विद्या के क्षेत्र में सफलता मिलती है।
  • गणेशा चालीसा के पाठन से हमे बुद्ध दोष से छुटकारा मिल जाता है।
  • इसे पढ़ने से विवाह सम्बन्धी समस्याओं से भी निजात मिल जाती है।
  • घर में सुख-शांति बानी रहती हैं और स्वस्थ संबंधी परेशानियां नहीं होती।
  • इससे हमारे सारे शत्रुओं का विनाश हो जाता है और अनेक विपदाओं से बचाव होता है।

गणेश आरती | Ganesh Aarti PDF

जय गणेश, जय गणेश,जय गणेश देवा।

माता जाकी पार्वती,पिता महादेवा॥ x2

एकदन्त दयावन्त,चार भुजाधारी।

माथे पर तिलक सोहे,मूसे की सवारी॥ x2

(माथे पर सिन्दूर सोहे,मूसे की सवारी॥)

पान चढ़े फूल चढ़े,और चढ़े मेवा।

(हार चढ़े, फूल चढ़े,और चढ़े मेवा।)

लड्डुअन का भोग लगे,सन्त करें सेवा॥ x2

जय गणेश, जय गणेश,जय गणेश देवा।

माता जाकी पार्वती,पिता महादेवा॥ x2

अँधे को आँख देत,कोढ़िन को काया।

बाँझन को पुत्र देत,निर्धन को माया॥ x2

‘सूर’ श्याम शरण आए,सफल कीजे सेवा।

माता जाकी पार्वती,पिता महादेवा॥ x2

(दीनन की लाज राखो,शम्भु सुतवारी।

कामना को पूर्ण करो,जग बलिहारी॥ x2)

जय गणेश, जय गणेश,जय गणेश देवा।

माता जाकी पार्वती,पिता महादेवा॥ x2

Ganesh Chalisa in Hindi PDF

You may also like:

गणेश चालीसा हिंदी अर्थ सहित | Ganesh Chalisa in Hindi

श्री गणेश अथर्वशीर्ष पाठ | Shri Ganesh Atharvashirsha Path in Sanskrit

गणपति अथर्वशीर्ष मराठी अर्थ सहित | Ganesh Atharvashirsha in Marathi

गणेश चतुर्थी व्रत कथा | Ganesh Chaturthi Vrat Katha in Hindi

संकष्टी गणेश चतुर्थी व्रत कथा PDF 2021 | Sankashti Ganesh Chaturthi Vrat Katha

Ganesh Chalisa in English

Ganesh Atharvashirsha 

You can download श्री गणेश चालीसा PDF / Ganesh Chalisa PDF in Hindi by clicking on the following download button.

श्री गणेश चालीसा | Ganesh Chalisa pdf

श्री गणेश चालीसा | Ganesh Chalisa PDF Download Link

REPORT THISIf the download link of श्री गणेश चालीसा | Ganesh Chalisa PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If श्री गणेश चालीसा | Ganesh Chalisa is a copyright material Report This. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

RELATED PDF FILES

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *