श्राद्ध चिंतामणि PDF

श्राद्ध चिंतामणि PDF Download

श्राद्ध चिंतामणि PDF download link is given at the bottom of this article. You can direct download PDF of श्राद्ध चिंतामणि for free using the download button.

श्राद्ध चिंतामणि PDF Summary

नमस्कार पाठकों, इस लेख के माध्यम से आप श्राद्ध चिंतामणि PDF प्राप्त कर सकते हैं। श्राद्ध चिंतामणि एक अत्यधिक महत्वपूर्ण व उपयोगी धर्म ग्रंथ है जिसके माध्यम से आप अपने मन में उठने वाले श्राद्ध से संबन्धित प्रश्नों का उत्तर प्राप्त कर सकते हैं। यह पुस्तक उन सभी के लिए मार्गदर्शन का कार्य करेगी जो अपने घर में किसी का श्राद्ध कर्म करना चाहते हैं।

किसी व्यक्ति द्वारा अपने पितरों के प्रति किए जाने वाले श्रद्धापूर्वक तर्पण – दान आदि कर्म को श्राद्ध कहा जाता है। श्राद्ध करने से पितर प्रसन्न होते हैं तथा अपने अग्रजों को आशीर्वाद प्रदान कर उनपर अपनी कृपा करते हैं जिसके फलस्वरूप व्यक्ति अपने जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में सफलता व उन्नति की प्राप्ति करता है।

श्राद्ध चिंतामणि PDF / Shraddha Chintamani PDF

पिण्ड का अर्थ

श्राद्ध-कर्म में पके हुए चावल, दूध और तिल को मिश्रित करके पिण्ड बनाते हैं, उसे ‘सपिण्डीकरण’ कहते हैं। पिण्ड का अर्थ है शरीर। यह एक पारंपरिक विश्वास है, जिसे विज्ञान भी मानता है कि हर पीढ़ी के भीतर मातृकुल तथा पितृकुल दोनों में पहले की पीढ़ियों के समन्वित ‘गुणसूत्र’ उपस्थित होते हैं। चावल के पिण्ड जो पिता, दादा, परदादा और पितामह के शरीरों का प्रतीक हैं, आपस में मिलकर फिर अलग बाँटते हैं। यह प्रतीकात्मक अनुष्ठान जिन जिन लोगों के गुणसूत्र (जीन्स) श्राद्ध करने वाले की अपनी देह में हैं, उनकी तृप्ति के लिए होता है।

श्राद्ध के वैज्ञानिक पहलू

जन्म एवं मृत्यु का रहस्य अत्यन्त गूढ़ है। वेदों में, दर्शन शास्त्रों में, उपनिषदों एवं पुराणों आदि में हमारे ऋषियों-मनीषियों ने इस विषय पर विस्तृत विचार किया है। श्रीमदभागवत में भी स्पष्ट रूप से बताया गया है कि जन्म लेने वाले की मृत्यु और मृत्यु को प्राप्त होने वाले का जन्म निश्चित है। यह प्रकृति का नियम है। शरीर नष्ट होता है मगर आत्मा कभी भी नष्ट नहीं होती है। वह पुन: जन्म लेती है और बार-बार जन्म लेती है। इस पुन: जन्म के आधार पर ही कर्मकाण्ड में श्राद्धदि कर्म का विधान निर्मित किया गया है। अपने पूर्वजों के निमित्त दी गई वस्तुएँ सचमुच उन्हें प्राप्त होती हैं या नहीं, इस विषय में अधिकांश लोगों को संदेह है।

हमारे पूर्वज अपने कर्मानुसार किस योनि में उत्पन्न हुए हैं, जब हमें इतना ही नहीं मालूम तो फिर उनके लिए दिए गए पदार्थ उन तक कैसे पहुँच सकते हैं? क्या एक ब्राह्मण को भोजन कराने से हमारे पूर्वजों का पेट भर सकता है? न जाने इस तरह के कितने ही सवाल लोगों के मन में उठते होंगे। वैसे इन प्रश्नों का सीधे-सीधे उत्तर देना सम्भव भी नहीं है, क्योंकि वैज्ञानिक मापदण्डों को इस सृष्टि की प्रत्येक विषयवस्तु पर लागू नहीं किया जा सकता। दुनिया में ऐसी कई बातें हैं, जिनका कोई प्रमाण न मिलते हुए भी उन पर विश्वास करना पड़ता है।

श्राद्ध की महत्ता

सूत्रकाल (लगभग ई. पू. 600) से लेकर मध्यकाल के धर्मशास्त्रकारों तक सभी लोगों ने श्राद्ध की महत्ता एवं उससे उत्पन्न कल्याण की प्रशंसा के पुल बाँध दिये हैं। आपस्तम्ब धर्मसूत्र[3] ने अधोलिखित सूचना दी है- ‘पुराने काल में मनुष्य एवं देव इसी लोक में रहते थे। देव लोग यज्ञों के कारण (पुरस्कारस्वरूप) स्वर्ग चले गये, किन्तु मनुष्य यहीं पर रह गये।

जो मनुष्य देवों के समान यज्ञ करते हैं वे परलोक (स्वर्ग) में देवों एवं ब्रह्मा के साथ निवास करते हैं। तब (मनुष्यों को पीछे रहते देखकर) मनु ने उस कृत्य को आरम्भ किया जिसे श्राद्ध की संज्ञा मिली है, जो मानव जाति को श्रेय (मुक्ति या आनन्द) की ओर ले जाता है। इस कृत्य में पितर लोग देवता (अधिष्ठाता) हैं, किन्तु ब्राह्मण लोग (जिन्हें भोजन दिया जाता है) आहवानीय अग्नि (जिसमें यज्ञों के समय आहुतियाँ दी जाती हैं) के स्थान पर माने जाते हैं।”

श्राद्ध के नियम

  • दैनिक पंच यज्ञों में पितृ यज्ञ को ख़ास बताया गया है।
  • इसमें तर्पण और समय-समय पर पिण्डदान भी सम्मिलित है।
  • पूरे पितृपक्ष भर तर्पण आदि करना चाहिए।
  • इस दौरान कोई अन्य शुभ कार्य या नया कार्य अथवा पूजा-पाठ अनुष्ठान सम्बन्धी नया काम नहीं किया जाता।
  • साथ ही श्राद्ध नियमों का विशेष पालन करना चाहिए।
  • परन्तु नित्य कर्म तथा देवताओं की नित्य पूजा जो पहले से होती आ रही है, उसको बन्द नहीं करना चाहिए।

श्राद्ध चिंतामणि PDF निशुल्क प्राप्त करने हेतु नीचे दिये गए डाउनलोड बटन पर क्लिक करें।

श्राद्ध चिंतामणि PDF Download Link

REPORT THISIf the download link of श्राद्ध चिंतामणि PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If श्राद्ध चिंतामणि is a copyright material Report This. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

Leave a Reply

Your email address will not be published.