शीतलाष्टमी व्रत कथा, पूजा विधि, आरती & शुभ मुहूर्त PDF in Hindi

Download PDF of शीतलाष्टमी व्रत कथा, पूजा विधि, आरती & शुभ मुहूर्त in Hindi

Report this PDF

Download शीतलाष्टमी व्रत कथा, पूजा विधि, आरती & शुभ मुहूर्त PDF for free from using the direct download link given below.

शीतलाष्टमी व्रत कथा, पूजा विधि, आरती & शुभ मुहूर्त in Hindi

Sheetala Ashtami 2021: कल शीतलाष्टमी की पूजा है. शीतला माता (Maa Sheetala) साफ-सफाई, स्वच्छता और आरोग्य की देवी हैं। शीतला माता अपने हाथों में सूप, झाड़ू, नीम के पत्ते और कलश धारण करती हैं, जो कि स्वच्छता और रोग प्रतिरोधकता का प्रतीक माना जाता है। मान्यता है कि शीतला माता की पूजा करने से परिवार के लोगों को रोग (Disease), दोष और बीमारियों से मुक्ति मिल जाती है। शीतलाष्टमी को कई इलाकों में बसौड़ा के नाम से भी जाना जाता है। आइए जानते है शीतलाष्टमी की तिथि, मुहूर्त, महत्व और पूजा विधि। यहाँ से आप शीतलाष्टमी व्रत कथा पीडीएफ पूजा विधि, शुभ मुहूर्त और महत्त्व डाउनलोड कर सकते हैं।

शीतला अष्टमी की व्रत कथा | Sheetala Ashtami Vrat Katha Hindi PDF

एक बार शीतला सप्तमी के दिन एक बुढ़िया व उसकी दो बहुओं ने व्रत रखा. उस दिन सभी को बासी भोजन ग्रहण करना था. इसलिये पहले दिन ही भोजन पका लिया गया था. लेकिन दोनों बहुओं को कुछ समय पहले ही संतान की प्राप्ति हुई थी कहीं बासी भोजन खाने से वे व उनकी संतान बिमार न हो जायें इसलिये बासी भोजन ग्रहण न कर अपनी सास के साथ माता की पूजा अर्चना के पश्चात पशओं के लिये बनाये गये भोजन के साथ अपने लिये भी रोट सेंक कर उनका चूरमा बनाकर खा लिया. जब सास ने बासी भोजन ग्रहण करने की कही तो काम का बहाना बनाकर टाल गई. उनके इस कृत्य से माता कुपित हो गई और उन दोनों के नवजात शिशु मृत मिले.

जब सास को पूरी कहानी पता चली तो उसने दोनों को घर से निकाल दिया. दोनों अपने शिशु के शवों को लिये जा रही थी कि एक बरगद के पास रूक विश्राम के लिये ठहर गई. वहीं पर ओरी व शीतला नामक दो बहनें भी थी जो अपने सर में पड़ी जूंओं से बहुत परेशान थी. दोनों बहुओं को उन पर दया आयी और उनकी मदद की सर से जूंए कम हुई तो उन्हें कुछ चैन मिला और बहुओं को आशीष दिया कि तुम्हारी गोद हरी हो जाये उन्होंने कहा कि हरी भरी गोद ही लुट गई है इस पर शीतला ने लताड़ लगाते हुए कहा कि पाप कर्म का दंड तो भुगतना ही पड़ेगा.

बहुओं ने पहचान लिया कि साक्षात माता हैं तो चरणों में पड़ गई और क्षमा याचना की, माता को भी उनके पश्चाताप करने पर दया आयी और उनके मृत बालक जीवित हो गये. तब दोनों खुशी-खुशी गांव लौट आयी. इस चमत्कार को देखकर सब हैरान रह गये. इसके बाद पूरा गांव माता को मानने लगा.

शीतला अष्टमी पूजा विधि

माता के प्रसाद के लिए एवं परिवार जनों के भोजन के लिए एक दिन पहले ही भोजन पकाया जाता है. माता को सफाई पसंद है, इसलिए सब कुछ साफ-सुथरा होना आवश्‍यक है. इस दिन प्रात: काल उठना चाहिए. स्नान करें. व्रत का संकल्प लेकर विधि-विधान से मां शीतला की पूजा करें. पहले दिन बने हुए यानि बासी भोजन का भोग लगाएं. साथ ही शीतला सप्तमी-अष्टमी व्रत की कथा सुनें.

  • शीतलाष्टमी के दिन सुबह उठकर सबसे पहले स्नान कर साफ वस्त्र पहने.
  • शीतलाष्टमी के पूजन में साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें.
  • नारंगी रंग के कपड़े को शुभ माना जाता है.
  • शीतला मां की भोग वाली थाली में दही, पुआ, पूरी, बाजरा और मीठे चावल रखें.
  • मां को सबसे पहले रोली,अक्षत, मेहंदी और वस्त्र चढ़ाएं और ठंडे पानी से भरा लोटा मां को समर्पित करें.
  • शीतला मां को भोग लगाएं और आटे के दीपक से आरती उतारें.
  • पूजा के अंत में नीम के पेड़ पर जल चढ़ायें.

शीतलाष्टमी मुहूर्त

हिंदू पंचाग के अनुसार आषाढ़ मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि शीतलाष्टमी मनाई जाती है. इस साल ये तिथि 02 जुलाई (शुक्रवार) यानी कल पड़ रही है. शीतलाष्टमी को बसौड़ा भी कहा जाता है. मान्यता है कि इस दिन शीतला माता को बासी भोजन का ही भोग लगाया जाता है. एक दिन पहले घर की साफ-सफाई करके मां के भोग के लिए दही, पुआ, पूरी, बाजरा और मीठे चावल बनाए जाते हैं. भोग लगाने के बाद घर के सभी सदस्य बासी भोजन करते हैं. मान्यता है कि इस दिन घर में चूल्हा नहीं जलाना चाहिए.

शीतलाष्टमी का महत्व

मां की पूजा करने से व्यक्ति के रोगों का समूल नाश हो जाता है। मां की पूजा बच्चों की दीर्घायु और आरोग्य के लिए की जाती है। मां शीतल की उपासना से व्यक्ति के जीवन में खुशहाली आती है। इनके कृपा से चेचक रोग से छुटकारा मिलता है।

शीतला अष्टमी स्त्रोत

वंदेऽहं शीतलां देवीं रासभस्थां दिगंबराम् ।

मार्जनीकलशोपेतां शूर्पालंकृतमस्तकाम् ॥

इसका अर्थ यह है कि शीतला माता हाथों में कलश, सूप, मार्जन (झाड़ू) और नीम के पत्ते धारण किए होती हैं. गर्दभ की सवारी किए हुए यह अभय मुद्रा में विराजमान हैं.

शीतला माता की आरती

जय शीतला माता, मैया जय शीतला माता,

आदि ज्योति महारानी सब फल की दाता। जय शीतला माता…

रतन सिंहासन शोभित, श्वेत छत्र भ्राता,

ऋद्धि-सिद्धि चंवर ढुलावें, जगमग छवि छाता। जय शीतला माता…

विष्णु सेवत ठाढ़े, सेवें शिव धाता,

वेद पुराण बरणत पार नहीं पाता । जय शीतला माता…

इन्द्र मृदंग बजावत चन्द्र वीणा हाथा,

सूरज ताल बजाते नारद मुनि गाता। जय शीतला माता…

घंटा शंख शहनाई बाजै मन भाता,

करै भक्त जन आरति लखि लखि हरहाता। जय शीतला माता…

ब्रह्म रूप वरदानी तुही तीन काल ज्ञाता,

भक्तन को सुख देनौ मातु पिता भ्राता। जय शीतला माता…

जो भी ध्यान लगावें प्रेम भक्ति लाता,

सकल मनोरथ पावे भवनिधि तर जाता। जय शीतला माता…

रोगन से जो पीड़ित कोई शरण तेरी आता,

कोढ़ी पावे निर्मल काया अन्ध नेत्र पाता। जय शीतला माता…

बांझ पुत्र को पावे दारिद कट जाता,

ताको भजै जो नाहीं सिर धुनि पछिताता। जय शीतला माता…

शीतल करती जननी तू ही है जग त्राता,

उत्पत्ति व्याधि विनाशत तू सब की घाता। जय शीतला माता…

दास विचित्र कर जोड़े सुन मेरी माता,

भक्ति आपनी दीजे और न कुछ भाता।

जय शीतला माता…।

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर के आप शीतलाष्टमी व्रत कथा पीडीएफ पूजा विधि, आरती शुभ मुहूर्त और महत्त्व / Sheetala Ashtami Vrat Katha PDF Pooja Vidhi, Aarti डाउनलोड कर सकते हो।

शीतलाष्टमी व्रत कथा, पूजा विधि, आरती & शुभ मुहूर्त pdf

शीतलाष्टमी व्रत कथा, पूजा विधि, आरती & शुभ मुहूर्त PDF Download Link

REPORT THISIf the download link of शीतलाष्टमी व्रत कथा, पूजा विधि, आरती & शुभ मुहूर्त PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If शीतलाष्टमी व्रत कथा, पूजा विधि, आरती & शुभ मुहूर्त is a copyright material we will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *