सम्पूर्ण रुद्राष्टाध्यायी पाठ | Rudrashtadhyayi PDF in Hindi

Download PDF of सम्पूर्ण रुद्राष्टाध्यायी पाठ | Rudrashtadhyayi in Hindi

Report this PDF

Download सम्पूर्ण रुद्राष्टाध्यायी पाठ | Rudrashtadhyayi PDF for free from using the direct download link given below.

सम्पूर्ण रुद्राष्टाध्यायी पाठ | Rudrashtadhyayi in Hindi

दोस्तों आज हम आपके लिए लेकर आयें Rudrashtadhyayi Hindi PDF / रुद्राष्टाध्यायी गीता प्रेस गोरखपुर PDF। सम्पूर्ण रुद्राष्टाध्यायी पाठ पीडीऍफ़ में आपको शिव जी के सरे रूपों के बारे में पढ़ने को मिलेगा। इस पोस्ट में आपको शिव जी को मानाने के सरे तरीके पता चलेंगे। रुद्राष्टाध्यायी इसे शुक्लयजुर्वेदीय रुद्राष्टाध्यायी भी कहते हैं। रुद्राष्टाध्यायी दो शब्द रुद्र[1] अर्थात् शिव और अष्टाध्यायी अर्थात् आठ अध्यायों वाला, इन आठ अध्यायों में शिव समाए हैं। वैसे तो रुद्राष्टाध्यायी में कुल दस अध्याय हैं परंतु आठ तक को ही मुख्य माना जाता है। रुद्राष्टाध्यायी यजुर्वेद का अंग है और वेदों को ही सर्वोत्तम ग्रंथ बताया गया है। वेद शिव के ही अंश है वेद: शिव: शिवो वेद: अर्थात् वेद ही शिव है तथा शिव ही वेद हैं, वेद का प्रादुर्भाव शिव से ही हुआ है। इस पोस्ट में आप बड़ी आसानी से Rudrashtadhyayi Hindi PDF / सम्पूर्ण रुद्राष्टाध्यायी पाठ पीडीऍफ़ डाउनलोड कर सकते हैं।

सम्पूर्ण रुद्राष्टाध्यायी पाठ हिंदी PDF | Rudrashtadhyayi Hindi PDF

भगवान शिव तथा विष्णु भी एकांश हैं तभी दोनो को हरिहर कहा जाता है, हरि अर्थात् नारायण (विष्णु) और हर अर्थात् महादेव (शिव) वेद और नारायण भी एक हैं वेदो नारायण: साक्षात् स्वयम्भूरिति शुश्रुतम्। यही कारण है कि भारतीय संस्कृति में वेदों का इतना महत्व है तथा इनके ही श्लोकों, सूक्तों से पूजा, यज्ञ, अभिषेक आदि किया जाता है। शिव से ही सब है तथा सब में शिव का वास है, शिव, महादेव, हरि, विष्णु, ब्रह्मा, रुद्र, नीलकंठ आदि सब ब्रह्म के पर्यायवाची हैं। रुद्र अर्थात् ‘रुत्’ और रुत् अर्थात् जो दु:खों को नष्ट करे, वही रुद्र है, रुतं–दु:खं, द्रावयति–नाशयति इति रुद्र:। रुद्रहृदयोपनिषद् में लिखा है–

सर्वदेवात्मको रुद्र: सर्वे देवा: शिवात्मका:।

रुद्रात्प्रवर्तते बीजं बीजयोनिर्जनार्दन:।।

यो रुद्र: स स्वयं ब्रह्मा यो ब्रह्मा स हुताशन:।

ब्रह्मविष्णुमयो रुद्र अग्नीषोमात्मकं जगत्।।

यह श्लोक बताता है कि रूद्र ही ब्रह्मा, विष्णु है सभी देवता रुद्रांश है और सबकुछ रुद्र से ही जन्मा है। इससे यह सिद्ध है कि रुद्र ही ब्रह्म है, वह स्वयम्भू है।

रुद्राष्टाध्यायी अत्यंत ही मूल्यवान है, न ही इससे बिना रुद्राभिषेक ही संभव है और न ही इसके बिना शिव पूजन ही किया जा सकता है। यह शुक्लयजुर्वेद का मुख्य भाग है। इसमें मुख्यत: आठ अध्याय हैं पर अंतिम में शान्त्यध्याय: नामक नवम तथा स्वस्तिप्रार्थनामन्त्राध्याय: नामक दशम अध्याय भी हैं। इसके प्रथम अध्याय में कुल 10 श्लोक है तथा सर्वप्रथम गणेशावाहन मंत्र है, प्रथम अध्याय में शिवसंकल्पसुक्त है। द्वितीय अध्याय में कुल 22 वैदिक श्लोक हैं जिनमें पुरुसुक्त (मुख्यत: 16 श्लोक) है। इसी प्रकार आदित्य सुक्त तथा वज्र सुक्त भी सम्मिलित हैं। पंचम अध्याय में परम् लाभदायक रुद्रसुक्त है, इसमें कुल 66 श्लोक हैं। छठें अध्याय के पंचम श्लोक के रूप में महान महामृत्युंजय श्लोक है। सप्तम अध्याय में 7 श्लोकों की अरण्यक श्रुति है प्रायश्चित्त हवन आदि में इसका उपयोग होता है। अष्टम अध्याय को नमक-चमक भी कहते हैं जिसमें 24 श्लोक हैं।

श्लोकों की संख्या की सूची निम्नांकित है—

  1. प्रथम अध्याय                 = 10 श्लोक
  2. द्वितीय अध्याय               = 22 श्लोक
  3. तृतीय अध्याय                = 17 श्लोक
  4. चतुर्थ अध्याय                 = 17 श्लोक
  5. पंचम अध्याय                  = 66 श्लोक
  6. षष्ठम अध्याय                  = 8 श्लोक
  7. सप्तम अध्याय                 = 7 श्लोक
  8. अष्टम अध्याय                 = 29 श्लोक
  9. शान्त्यध्याय:                  = 24 श्लोक
  10. स्वस्तिप्रार्थनामंत्राध्याय:  = 13 श्लोक

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर के आप Rudrashtadhyayi Hindi PDF / रुद्राष्टाध्यायी गीता प्रेस गोरखपुर PDF डाउनलोड कर सकते हैं।

सम्पूर्ण रुद्राष्टाध्यायी पाठ | Rudrashtadhyayi PDF Download Link

REPORT THISIf the download link of सम्पूर्ण रुद्राष्टाध्यायी पाठ | Rudrashtadhyayi PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If सम्पूर्ण रुद्राष्टाध्यायी पाठ | Rudrashtadhyayi is a copyright material we will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *