नवरात्रि व्रत कथा | Navratri Vrat Katha PDF in Hindi

Download नवरात्रि व्रत कथा | Navratri Vrat Katha PDF in Hindi

नवरात्रि व्रत कथा | Navratri Vrat Katha PDF download link is given at the bottom of this article. You can direct download PDF of नवरात्रि व्रत कथा | Navratri Vrat Katha in Hindi for free using the download button.

Tags:

नवरात्रि व्रत कथा | Navratri Vrat Katha Hindi PDF Summary

In this article, we are going to share Navratri Vrat Katha PDF / नवरात्रि व्रत कथा PDF with our devotees. The Chaitra Navratri will start from 6th October 2021 and will continue till 15th October 2021. It is one of the major festivals of Hindu religion in which Goddess Adishakti is worshipped. Devotees of Maa Adishakti worship her nine different forms during Chaitra Navratri by keeping a fast. In India, this festival is celebrated in all states. Below we have given the download link for नवरात्रि व्रत कथा PDF / Navratri Vrat Katha PDF in Hindi.

In this nine-day long festival, nine forms of Maa Durga are worshipped. In the scriptures, Maa Durga is described as the goddess of power. That is why it is called the festival of worship of Shakti. During Navratri, fasts are observed for nine days. It is believed that those who observe the fast of Navratri get the blessings of Maa Durga and all their troubles are removed. Mata Rani fulfills all their wishes.

नवरात्रि व्रत कथा PDF | Navratri Vrat Katha PDF in Hind

मनुष्य जाने कितने मनोरथों का चिन्तन करता है पर होता वही है जो भाग्य में विधाता ने लिखा है जो जैसा करता है उसको फल भी उस कर्म के अनुसार मिलता है, क्यों कि कर्म करना मनुष्य के आधीन है। पर फल दैव के आधीन है। जैसे अग्नि में पड़े तृणाति अग्नि को अधिक प्रदीप्त कर देते हैं उसी तरह अपनी कन्या के ऐसे निर्भयता से कहे हुए वचन सुनकर उस ब्राह्मण को अधिक क्रोध आया। तब उसने अपनी कन्या का एक कुष्ठी के साथ विवाह कर दिया और अत्यन्त क्रुद्ध होकर पुत्री से कहने लगा कि जाओ- जाओ जल्दी जाओ अपने कर्म का फल भोगो। देखें केवल भाग्य भरोसे पर रहकर तुम क्या करती हो?
इस प्रकार से कहे हुए पिता के कटु वचनों को सुनकर सुमति मन में विचार करने लगी कि – अहो! मेरा बड़ा दुर्भाग्य है जिससे मुझे ऐसा पति मिला। इस तरह अपने दुख का विचार करती हुई वह सुमति अपने पति के साथ वन चली गई और भयावने कुशयुक्त उस स्थान पर उन्होंने वह रात बड़े कष्ट से व्यतीत की। उस गरीब बालिका की ऐसी दशा देखकर भगवती पूर्व पुण्य के प्रभाव से प्रकट होकर सुमति से कहने लगीं कि हे दीन ब्राह्मणी! मैं तुम पर प्रसन्न हूं, तुम जो चाहो वरदान मांग सकती हो। मैं प्रसन्न होने पर मनवांछित फल देने वाली हूं। इस प्रकार भगवती दुर्गा का वचन सुनकर ब्राह्मणी कहने लगी कि आप कौन हैं जो मुझ पर प्रसन्न हुई हैं, वह सब मेरे लिए कहो और अपनी कृपा दृष्टि से मुझ दीन दासी को कृतार्थ करो। ऐसा ब्राह्मणी का वचन सुनकर देवी कहने लगी कि मैं आदिशक्ति हूं और मैं ही ब्रह्मविद्या और सरस्वती हूं मैं प्रसन्न होने पर प्राणियों का दुख दूर कर उनको सुख प्रदान करती हूं। हे ब्राह्मणी! मैं तुझ पर तेरे पूर्व जन्म के पुण्य के प्रभाव से प्रसन्न हूं।
तुम्हारे पूर्व जन्म का वृतान्त सुनाती हूं सुनो! तुम पूर्व जन्म में निषाद (भील) की स्त्री थी और अति पतिव्रता थी। एक दिन तेरे पति निषाद ने चोरी की। चोरी करने के कारण तुम दोनों को सिपाहियों ने पकड़ लिया और ले जाकर जेलखाने में कैद कर दिया। उन लोगों ने तेरे को और तेरे पति को भोजन भी नहीं दिया। इस प्रकार नवरात्रों के दिनों में तुमने न तो कुछ खाया और न ही जल ही पिया। इसलिए नौ दिन तक नवरात्र का व्रत हो गया। हे ब्राह्मणी! उन दिनों में जो व्रत हुआ उस व्रत के प्रभाव से प्रसन्न होकर तुम्हें मनवांछित वस्तु दे रही हूं। तुम्हारी जो इच्छा हो वह वरदान मांग लो।

नवरात्रि सम्पूर्ण पूजन विधि 2021 PDF | Navratri Pooja Vidhi in Hindi PDF

  • इस दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करें और स्वच्छ वस्त्र पहनें।
  • इसके बाद घर के मंदिर की साफ सफाई कर लें। फिर साफ सुथरी चौकी बिछाएं।
  • उस पर गंगाजल का छिड़काव कर उसे शुद्ध कर लें।
  • चौकी के पास एक बर्तन रखें जिसमें मिट्टी फैलाकर ज्वार बो दें।
  • अब चौकी के पास मां दुर्गा की मूर्ति की स्थापना करें और दुर्गा जी को तिलक लगाएं।
  • नारियल पर भी तिलक लगाएं। फूलों की माला मां दुर्गा को चढ़ाएं।
  • फिर कलश स्थापना की तैयारी करें जिसके लिए सबसे पहले स्वास्तिक बना लें।
  • कलश में जल, अक्षत, सुपारी, रोली और सिक्के डालें और फिर एक लाल रंग की चुनरी उस पर लपेट दें।

नवरात्रि पूजन सामग्री लिस्ट 2021 PDF | Navratri Pooja Samagri List 2021 PDF in Hindi

  • लाल रंग की गोटेदार चुनरी
  • लाल रेशमी चूड़ियां
  • सिन्दूर
  • आम के पत्‍ते
  • लाल वस्त्र
  • लंबी बत्ती के लिए रुई या बत्ती
  • धूप
  • अगरबत्ती
  • माचिस
  • चौकी
  • चौकी के लिए लाल कपड़ा
  • नारियल
  • दुर्गासप्‍तशती किताब
  • कलश
  • साफ चावल
  • कुमकुम
  • मौली
  • श्रृंगार का सामान
  • दीपक
  • घी/ तेल
  • फूल
  • फूलों का हार
  • पान
  • सुपारी
  • लाल झंडा
  • लौंग
  • इलायची
  • बताशे अथवा मिश्री
  • कपूर
  • उपले
  • फल/मिठाई
  • देवी की प्रतिमा या फोटो
  • कलावा
  • मेवे
  • आम की लकड़ी
  • जौ
  • धूप
  • पांच मेवा
  • घी
  • लोबान
  • गुगल
  • लौंग
  • कमल गट्टा
  • सुपारी
  • कपूर
  • हवन कुंड

नवरात्रि में नौ रंगों का महत्व

प्रतिपदा- पीला

द्वितीया- हरा

तृतीया- भूरा

चतुर्थी- नारंगी

पंचमी- सफेद

षष्टी- लाल

सप्तमी- नीला

अष्टमी- गुलाबी

नवमी- बैंगनी

नवरात्रि व्रत कथा PDF | Navratri Vrat Katha PDF

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर के आप Navratri Vrat Katha PDF in Hindi / नवरात्रि व्रत कथा PDF मुफ्त में डाउनलोड कर सकते है।

नवरात्रि व्रत कथा | Navratri Vrat Katha pdf

नवरात्रि व्रत कथा | Navratri Vrat Katha PDF Download Link

REPORT THISIf the download link of नवरात्रि व्रत कथा | Navratri Vrat Katha PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If नवरात्रि व्रत कथा | Navratri Vrat Katha is a copyright material Report This. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

RELATED PDF FILES

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *