Nagendra Haraya Trilochanaya Lyrics PDF in Sanskrit

Download PDF of Nagendra Haraya Trilochanaya Lyrics in Sanskrit

Report this PDF

Download Nagendra Haraya Trilochanaya Lyrics PDF for free from pdffile.co.in using the direct download link given below.

Nagendra Haraya Trilochanaya Lyrics in Sanskrit

दोस्तों आज हम आपके लिए लेकर आएं हैं Nagendra Haraya Trilochanaya Lyrics Hindi PDF। नागेंद्रहाराय त्रिलोचनाय स्तुति को शिव पंचाक्षर स्तोत्र के नाम से भी जाना जाता है। इस शिव पंचाक्षर स्तोत्र में शिव जी के पंचाक्षरी मंत्र (ॐ नमः शिवाय) के पवित्र अक्षरों (न-म-शि-वा-य) का विस्तृत वर्णन किया गया हैं । इसके निरंतर जाप करने से मनुष्य के जीवन के सारे कष्ट तत्काल ही दूर हो जाते हैं एवं मनुष्यों का जीवन बहुत ही सुख एवं समृद्धि से भरपूर हो जाता है। यह अत्यंत ही चमत्कारी एवं लाभकारी स्त्रोत है। इस स्तोत्र की रचना श्री आदि शंकराचार्य जी ने की है। श्री आदि शंकराचार्य जी एक महान, विद्वान व तपस्वी ऋषि थे। जिन्होंने अनेक दिव्य स्त्रोतों की रचना की थी।
हमने यहाँ नागेंद्रहाराय त्रिलोचनाय स्तुति का अर्थ भी दिया है जिसे पढ़कर आप इसकी महिमा ज्ञात कर सकते हैं। आप नीचे दिए हुए डाउनलोड बटन पर क्लिक कर के संपूर्ण  Nagendra Haraya Trilochanaya Lyrics Hindi PDF डाउनलोड कर सकते हैं।

Nagendra Haraya Trilochanaya Lyrics Hindi PDF | नागेंद्रहाराय त्रिलोचनाय स्तुति लिरिक्स

नागेन्द्रहाराय त्रिलोचनाय भस्माङ्गरागाय महेश्वराय ।
नित्याय शुद्धाय दिगम्बराय तस्मै नकाराय नमः शिवाय ।।

मन्दाकिनीसलिलचन्दनचर्चिताय नन्दीश्वरप्रमथनाथमहेश्वराय ।
मन्दारपुष्पबहुपुष्पसुपूजिताय तस्मै मकाराय नमः शिवाय ।।

शिवाय गौरीवदनाब्जबृंदा सूर्याय दक्षाध्वरनाशकाय ।
श्रीनीलकण्ठाय वृषध्वजाय तस्मै शिकाराय नमः शिवाय ।।

वशिष्ठकुम्भोद्भवगौतमार्यमूनीन्द्र देवार्चिता शेखराय ।
चन्द्रार्कवैश्वानरलोचनाय तस्मै वकाराय नमः शिवाय ।।

यज्ञस्वरूपाय जटाधराय पिनाकहस्ताय सनातनाय ।
दिव्याय देवाय दिगम्बराय तस्मै यकाराय नमः शिवाय ।।

पञ्चाक्षरमिदं पुण्यं यः पठेच्छिवसंनिधौ ।
शिवलोकमावाप्नोति शिवेन सह मोदते ।।

नागेंद्रहाराय त्रिलोचनाय स्तुति का अर्थ | Nagendra Haraya Trilochanaya PDF

वे जिनके पास साँपों का राजा उनकी माला के रूप में है, और जिनकी तीन आँखें हैं,
जिनके शरीर पर पवित्र राख मली हुई है और जो महान प्रभु है,
वे जो शाश्वत है, जो पूर्ण पवित्र हैं और चारों दिशाओं को
जो अपने वस्त्रों के रूप में धारण करते हैं,
उस शिव को नमस्कार, जिन्हें शब्दांश “न” द्वारा दर्शाया गया है

वे जिनकी पूजा मंदाकिनी नदी के जल से होती है और चंदन का लेप लगाया जाता है,
वे जो नंदी के और भूतों-पिशाचों के स्वामी हैं, महान भगवान,
वे जो मंदार और कई अन्य फूलों के साथ पूजे जाते हैं,
उस शिव को प्रणाम, जिन्हें शब्दांश “म” द्वारा दर्शाया गया है

वे जो शुभ है और जो नए उगते सूरज की तरह है, जिनसे गौरी का चेहरा खिल उठता है,
वे जो दक्ष के यज्ञ के संहारक हैं,
वे जिनका कंठ नीला है, और जिनके प्रतीक के रूप में बैल है,
उस शिव को नमस्कार, जिन्हें शब्दांश “शि” द्वारा दर्शाया गया है

वे जो श्रेष्ठ और सबसे सम्मानित संतों – वशिष्ट, अगस्त्य और गौतम, और देवताओं द्वारा भी पूजित है, और जो ब्रह्मांड का मुकुट हैं,
वे जिनकी चंद्रमा, सूर्य और अग्नि तीन आंखें हों,
उस शिव को नमस्कार, जिन्हें शब्दांश “वा” द्वारा दर्शाया गया है
वे जो यज्ञ (बलिदान) का अवतार है और जिनकी जटाएँ हैं,

जिनके हाथ में त्रिशूल है और जो शाश्वत हैं,
वे जो दिव्य हैं, जो चमकीला हैं, और चारों दिशाएँ जिनके वस्त्र हैं,
उस शिव को नमस्कार, जिन्हें शब्दांश “य” द्वारा दर्शाया गया है

जो शिव के समीप इस पंचाक्षर का पाठ करते हैं,
वे शिव के निवास को प्राप्त करेंगे और आनंद लेंगे।

नागेंद्रहाराय त्रिलोचनाय स्तुति अर्थ सहित हिंदी पीडीऍफ़ (Nagendra Haraya Trilochanaya Lyrics Hindi PDF) में डाउनलोड करने के लिए नीचे दिए हुए डाउनलोड बटन पर क्लिक करें।

Nagendra Haraya Trilochanaya Lyrics PDF Download Link

REPORT THISIf the download link of Nagendra Haraya Trilochanaya Lyrics PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If Nagendra Haraya Trilochanaya Lyrics is a copyright material we will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

RELATED PDF FILES

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *