मत्स्य पुराण | Matsya Purana PDF in Hindi

मत्स्य पुराण | Matsya Purana Hindi PDF Download

मत्स्य पुराण | Matsya Purana in Hindi PDF download link is given at the bottom of this article. You can direct download PDF of मत्स्य पुराण | Matsya Purana in Hindi for free using the download button.

मत्स्य पुराण | Matsya Purana Hindi PDF Summary

Dear readers, here we are offering Matsya Purana PDF in Hindi to all of you. Matsya Purana is one of the most important Vedic scriptures in Hinduism. It is one of the oldest Vedic scriptures. The Matsya Purana has survived into the modern era in many versions, varying in the details.

You can say that almost all of the published versions have 291 chapters, except the Tamil language version, written in Grantha script, which has 172 chapters. Lord Matsya is one of the avatars of Lord Vishnu which is described in the ancient Vedic scriptures. The Matsya Purana is mainly founded in the Sanskrit language but later translated into many other languages.

Matsya Purana in Hindi PDF

वैष्णव सम्प्रदाय से सम्बन्धित ‘मत्स्य पुराण’ व्रत, पर्व, तीर्थ, दान, राजधर्म और वास्तु कला की दृष्टि से एक अत्यन्त महत्त्वपूर्ण पुराण है। इस पुराण की श्लोक संख्या चौदह हज़ार है। इसे दो सौ इक्यानवे अध्यायों में विभाजित किया गया है। इस पुराण के प्रथम अध्याय में ‘मत्स्यावतार’ के कथा है। उसी कथा के आधार पर इसका यह नाम पड़ा है। प्रारम्भ में प्रलय काल में पूर्व एक छोटी मछली मनु महाराज की अंजलि में आ जाती है। वे दया करके उसे अपने कमण्डल में डाल लेते हैं। किन्तु वह मछली शनै:-शनैष् अपना आकार बढ़ाती जाती है। सरोवर और नदी भी उसके लिए छोटी पड़ जाती है। तब मनु उसे सागर में छोड़ देते हैं और उससे पूछते हैं कि वह कौन है?

भगवान मत्स्य मनु को बताते हैं कि प्रलय काल में मेरे सींग में अपनी नौका को बांधकर सुरक्षित ले जाना और सृष्टि की रचना करना। वे भगवान के ‘मत्स्य अवतार’ को पहचान कर उनकी स्तुति करते हैं। मनु प्रलय काल में मत्स्य भगवान द्वारा अपनी सुरक्षा करते हैं। फिर ब्रह्मा द्वारा मानसी सृष्टि होती है। किन्तु अपनी उस सृष्टि का कोई परिणाम न देखकर दक्ष प्रजापति मैथुनी-सृष्टि से सृष्टि का विकास करते हैं।

इसके उपरान्त ‘मत्स्य पुराण’ में मन्वन्तर, सूर्य वंश, चंद्र वंश, यदु वंश, क्रोष्टु वंश, पुरू वंश, कुरु वंश और अग्नि वंश आदि का वर्णन है। फिर ऋषि-मुनियों के वंशों का उल्लेख किया गया है। इन्हें भी देखें: सूर्यवंश वृक्ष एवं चन्द्र वंश वृक्ष

इस पुराण में ‘राजधर्म’ और ‘राजनीति’ का अत्यन्त श्रेष्ठ वर्णन है। इस दृष्टि से ‘मत्स्य पुराण’ काफ़ी महत्त्वपूर्ण है। प्राचीन काल में राजा का विशेष महत्त्व होता था। इसीलिए उसकी सुरक्षा का बहुत ध्यान रखना पड़ता था। क्योंकि राजा की सुरक्षा से ही राज्य की सुरक्षा और श्रीवृद्धि सम्भव हो पाती थी। इस दृष्टि से इस पुराण में बहुत व्यावहारिक ज्ञान दिया गया है। ‘मत्स्य पुराण’ कहता है कि राजा को अपनी सुरक्षा की दृष्टि से अत्यन्त शंकालु तथा सतर्क रहना चाहिए। बिना परीक्षण किए वह भोजन कदापि न करे। शय्या पर जाने से पूर्व अच्छी प्रकार से देख ले कि उसमें कोई विषधर आदि तो नहीं छोड़ा गया है। उसे कभी भीड़ या जलाशय में अकेले प्रवेश नहीं करना चाहिए। अनजान अश्व या हाथी पर नहीं चढ़ना चाहिए। किसी अनजान स्त्री से सम्बन्ध नहीं बनाने चाहिए।

You can download Matsya Purana in Hindi PDF by clicking on the following download button.

मत्स्य पुराण | Matsya Purana PDF Download Link

REPORT THISIf the download link of मत्स्य पुराण | Matsya Purana PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If मत्स्य पुराण | Matsya Purana is a copyright material Report This. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

RELATED PDF FILES

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *