Karwa Chauth Katha Book PDF in Hindi

Karwa Chauth Katha Book Hindi PDF Download

Karwa Chauth Katha Book in Hindi PDF download link is given at the bottom of this article. You can direct download PDF of Karwa Chauth Katha Book in Hindi for free using the download button.

Tags:

Karwa Chauth Katha Book Hindi PDF Summary

Dear Users, Here we are going to share Karwa Chauth Katha Book PDF in Hindi with you. In this book, you can read Karwa Chauth Vrat Kath PDF and Pooja Vidhi and aarti in Hindi language. Karva Chauth fasting is observed by married women for their husband’s long life and happy married life. This time this fast will be kept on October 24. On this day women observe a Nirjala fast and after moonrise, they break the fast after seeing the moon. In this fast, worship is done in the evening with the law. After which it is considered very necessary to listen to the fast story. Below we have given the download link for Karwa Chauth Katha Book in Hindi PDF.

Karwa Chauth Katha Book PDF in Hindi | Karwa Chauth Vrat Katha PDF

एक ब्राह्मण के सात पुत्र थे और वीरावती नाम की इकलौती पुत्री थी। सात भाइयों की अकेली बहन होने के कारण वीरावती सभी भाइयों की लाडली थी और उसे सभी भाई जान से बढ़कर प्रेम करते थे. कुछ समय बाद वीरावती का विवाह किसी ब्राह्मण युवक से हो गया। विवाह के बाद वीरावती मायके आई और फिर उसने अपनी भाभियों के साथ करवाचौथ का व्रत रखा लेकिन शाम होते-होते वह भूख से व्याकुल हो उठी। सभी भाई खाना खाने बैठे और अपनी बहन से भी खाने का आग्रह करने लगे, लेकिन बहन ने बताया कि उसका आज करवा चौथ का निर्जल व्रत है और वह खाना सिर्फ चंद्रमा को देखकर उसे अर्घ्‍य देकर ही खा सकती है। लेकिन चंद्रमा अभी तक नहीं निकला है, इसलिए वह भूख-प्यास से व्याकुल हो उठी है।

वीरावती की ये हालत उसके भाइयों से देखी नहीं गई और फिर एक भाई ने पीपल के पेड़ पर एक दीपक जलाकर चलनी की ओट में रख देता है। दूर से देखने पर वह ऐसा लगा की चांद निकल आया है। फिर एक भाई ने आकर वीरावती को कहा कि चांद निकल आया है, तुम उसे अर्घ्य देने के बाद भोजन कर सकती हो। बहन खुशी के मारे सीढ़ियों पर चढ़कर चांद को देखा और उसे अर्घ्‍य देकर खाना खाने बैठ गई।उसने जैसे ही पहला टुकड़ा मुंह में डाला है तो उसे छींक आ गई। दूसरा टुकड़ा डाला तो उसमें बाल निकल आया। इसके बाद उसने जैसे ही तीसरा टुकड़ा मुंह में डालने की कोशिश की तो उसके पति की मृत्यु का समाचार उसे मिल गया।

उसकी भाभी उसे सच्चाई से अवगत कराती है कि उसके साथ ऐसा क्यों हुआ। करवा चौथ का व्रत गलत तरीके से टूटने के कारण देवता उससे नाराज हो गए हैं। एक बार इंद्र देव की पत्नी इंद्राणी करवाचौथ के दिन धरती पर आईं और वीरावती उनके पास गई और अपने पति की रक्षा के लिए प्रार्थना की। देवी इंद्राणी ने वीरावती को पूरी श्रद्धा और विधि-विधान से करवाचौथ का व्रत करने के लिए कहा। इस बार वीरावती पूरी श्रद्धा से करवाचौथ का व्रत रखा। उसकी श्रद्धा और भक्ति देख कर भगवान प्रसन्न हो गए और उन्होंनें वीरावती सदासुहागन का आशीर्वाद देते हुए उसके पति को जीवित कर दिया। इसके बाद से महिलाओं का करवाचौथ व्रत पर अटूट विश्वास होने लगा।

Karwa Chauth Vrat Katha PDF

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर के आप Karwa Chauth Katha Book PDF in Hindi मुफ्त में डाउनलोड कर सकते है।

Karwa Chauth Katha Book pdf

Karwa Chauth Katha Book PDF Download Link

REPORT THISIf the download link of Karwa Chauth Katha Book PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If Karwa Chauth Katha Book is a copyright material Report This. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

RELATED PDF FILES

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *