कामिका एकादशी व्रत कथा | Kamika Ekadashi Vrat Katha PDF in Hindi

कामिका एकादशी व्रत कथा | Kamika Ekadashi Vrat Katha Hindi PDF Download

कामिका एकादशी व्रत कथा | Kamika Ekadashi Vrat Katha in Hindi PDF download link is given at the bottom of this article. You can direct download PDF of कामिका एकादशी व्रत कथा | Kamika Ekadashi Vrat Katha in Hindi for free using the download button.

Tags:

कामिका एकादशी व्रत कथा | Kamika Ekadashi Vrat Katha Hindi PDF Summary

नमस्कार मित्रों, आज इस लेख के माध्यम से हम आप सभी के लिए कामिका एकादशी व्रत कथा / Kamika Ekadashi Vrat Katha in Hindi PDF प्रदान करने जा रहे हैं। कामिका एकादशी के व्रत को सनातन हिन्दू धर्म में बहुत अधिक महत्वपूर्ण माना गया है। श्रावण (सावन) मास में कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि को कामिका एकादशी के व्रत का पालन बड़े ही विधि-विधान से किया जाता है। यह एकादशी भगवान विष्णु को समर्पित होती है।

इस एकादशी के दिन भगवान श्री हरी विष्णु जी की पीले फल-फूल से पूजा-अर्चना की जाती है। कामिका एकादशी को पवित्रा एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। हिन्दू धर्म में इस एकादशी के व्रत को सर्वोत्तम व्रत माना गया है, क्योंकि इस एकादशी का पालन श्रावण के पावन महीने में किया जाता है जो कि भगवान शिव को अत्यंत ही प्रिय है। इस व्रत को करने से व्यक्ति को भगवान श्री हरी विष्णु जी की विशेष कृपा प्राप्त होती है।

कामिका एकादशी के व्रत का श्रद्धापूर्वक पालन करने से भक्तों के सभी प्रकार के पापों का शीघ्र ही अंत हो जाता है तथा वह भक्त भगवान श्री हरी विष्णु जी की कृपा से जीवन के समस्त सुखों को भोगकर अंत समय में मोक्ष की प्राप्ति करता है। इसीलिए आप भी भगवान विष्णु जी का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए इस व्रत का नियमपूर्वक पालन अवश्य करें तथा कामिका एकादशी की व्रत कथा भी अवश्य पढ़ें अथवा सुनें क्योंकि व्रत कथा बिना पढ़ें अथवा सुने व्रत का पूर्ण फल प्राप्त नहीं होता है।

कामिका एकादशी व्रत कथा / Kamika Ekadashi Vrat Katha in Hindi PDF

  • अर्जुन ने कहा- “हे प्रभु! मैंने आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की देवशयनी एकादशी का सविस्तार वर्णन सुना। अब आप मुझे श्रावण माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी की कथा सुनाने की कृपा करें। इस एकादशी का नाम क्या है? इसकी विधि क्या है? इसमें किस देवता का पूजन होता है? इसका उपवास करने से मनुष्य को किस फल की प्राप्ति होती है?”
  • भगवान श्रीकृष्ण ने कहा- “हे श्रेष्ठ धनुर्धर! मैं श्रावण माह की पवित्र एकादशी की कथा सुनाता हूँ, ध्यानपूर्वक श्रवण करो। एक बार इस एकादशी की पावन कथा को भीष्म पितामह ने लोकहित के लिये नारदजी से कहा था। एक समय नारदजी ने कहा – ‘हे पितामह! आज मेरी श्रावण के कृष्ण पक्ष की एकादशी की कथा सुनने की इच्छा है, अतः आप इस एकादशी की व्रत कथा विधान सहित सुनाइये।’
  • नारदजी की इच्छा को सुन पितामह भीष्म ने कहा – ‘हे नारदजी! आपने बहुत ही सुन्दर प्रस्ताव किया है। अब आप बहुत ध्यानपूर्वक इसे श्रवण कीजिए- श्रावण माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी का नाम कामिका है। इस एकादशी की कथा सुनने मात्र से ही वाजपेय यज्ञ के फल की प्राप्ति होती है। कामिका एकादशी के उपवास में शङ्ख, चक्र, गदाधारी भगवान विष्णु का पूजन होता है।
  • जो मनुष्य इस एकादशी को धूप, दीप, नैवेद्य आदि से भगवान विष्णु की पूजा करते हैं, उन्हें गंगा स्नान के फल से भी उत्तम फल की प्राप्ति होती है। सूर्य ग्रहण और चन्द्र ग्रहण में केदार और कुरुक्षेत्र में स्नान करने से जिस पुण्य की प्राप्ति होती है, वह पुण्य कामिका एकादशी के दिन भगवान विष्णु की भक्तिपूर्वक पूजा करने से प्राप्त हो जाता है। भगवान विष्णु की श्रावण माह में भक्तिपूर्वक पूजा करने का फल समुद्र और वन सहित पृथ्वी दान करने के फल से भी ज्यादा होता है। व्यतिपात में गंडकी नदी में स्नान करने से जो फल प्राप्त होता है, वह फल भगवान की पूजा करने से मिल जाता है।
  • संसार में भगवान की पूजा का फल सबसे ज्यादा है, अतः भक्तिपूर्वक भगवान की पूजा न बन सके तो श्रावण माह के कृष्ण पक्ष की कामिका एकादशी का उपवास करना चाहिये। आभूषणों से युक्त बछड़ा सहित गौदान करने से जो फल प्राप्त होता है, वह फल कामिका एकादशी के उपवास से मिल जाता है।
  • जो उत्तम द्विज श्रावण माह के कृष्ण पक्ष की कामिका एकादशी का उपवास करते हैं तथा भगवान विष्णु का पूजन करते हैं, उनसे सभी देव, नाग, किन्नर, पितृ आदि की पूजा हो जाती है, इसलिये पाप से डरने वाले व्यक्तियों को विधि-विधान सहित इस उपवास को करना चाहिये। संसार सागर तथा पापों में फँसे हुए मनुष्यों को इनसे मुक्ति के लिये कामिका एकादशी का व्रत करना चाहिये।
  • कामिका एकादशी के उपवास से भी पाप नष्ट हो जाते हैं, संसार में इससे अधिक पापों को नष्ट करने वाला कोई और उपाय नहीं है।
  • हे नारदजी! स्वयं भगवान ने अपने मुख से कहा है कि मनुष्यों को अध्यात्म विद्या से जो फल प्राप्त होता है, उससे अधिक फल कामिका एकादशी का व्रत करने से मिल जाता है। इस उपवास के करने से मनुष्य को न यमराज के दर्शन होते हैं और न ही नरक के कष्ट भोगने पड़ते हैं। वह स्वर्ग का अधिकारी बन जाता है। जो मनुष्य इस दिन तुलसीदल से भक्तिपूर्वक भगवान विष्णु का पूजन करते हैं, वे इस संसार सागर में रहते हुए भी इस प्रकार अलग रहते हैं, जिस प्रकार कमल पुष्प जल में रहता हुआ भी जल से अलग रहता है।
  • तुलसीदल से भगवान श्रीहरि का पूजन करने का फल एक बार स्वर्ण और चार बार चाँदी के दान के फल के बराबर है। भगवान विष्णु रत्न, मोती, मणि आदि आभूषणों की अपेक्षा तुलसीदल से अधिक प्रसन्न होते हैं। जो मनुष्य प्रभु का तुलसीदल से पूजन करते हैं, उनके सभी पाप नष्ट हो जाते हैं।
  • हे नारदजी! मैं भगवान की अति प्रिय श्री तुलसीजी को प्रणाम करता हूँ। तुलसीजी के दर्शन मात्र से मनुष्य के सभी पाप नष्ट हो जाते हैं और शरीर के स्पर्श मात्र से मनुष्य पवित्र हो जाता है। तुलसीजी को जल से स्नान कराने से मनुष्य की सभी यम यातनाएं नष्ट हो जाती हैं। जो मनुष्य तुलसीजी को भक्तिपूर्वक भगवान के श्रीचरण-कमलों में अर्पित करता है, उसे मुक्ति मिलती है। इस कामिका एकादशी की रात्रि को जो मनुष्य जागरण करते हैं और दीप-दान करते हैं, उनके पुण्यों को लिखने में चित्रगुप्त भी असमर्थ हैं।
  • एकादशी के दिन जो मनुष्य भगवान के सामने दीपक जलाते हैं, उनके पितर स्वर्गलोक में अमृत का पान करते हैं। भगवान के सामने जो मनुष्य घी या तिल के तेल का दीपक जलाते हैं, उनको सूर्य लोक में भी सहस्रों दीपकों का प्रकाश मिलता है। कामिका एकादशी का व्रत प्रत्येक मनुष्य को करना चाहिये। इस व्रत के करने से ब्रह्महत्या आदि के सभी पाप नष्ट हो जाते हैं और इहलोक में सुख भोगकर प्राणी अन्त में विष्णुलोक को जाते हैं।
  • इस कामिका एकादशी के माहात्म्य के श्रवण व पठन से मनुष्य स्वर्गलोक को प्राप्त करते हैं।”

कथा-सार

भगवान श्रीहरि सर्वोपरि हैं। वे अपने भक्तों की निश्चल भक्ति से सहज ही प्रसन्न हो जाते हैं। तुलसीजी भगवान विष्णु की प्रिया हैं। भगवान श्रीहरि हीरे-मोती, सोने-चाँदी से इतने प्रसन्न नहीं होते, जितनी प्रसन्नता उन्हें तुलसीदल के अर्पण करने पर होती है।

कामिका एकादशी 2022 / Kamika Ekadashi Katha 2022 – दूसरी कथा

  • धर्मराज युधिष्ठिर कहने लगे कि हे भगवन्! मैं आपको कोटि-कोटि नमस्कार करता हूँ। अब आप कृपा करके चैत्र शुक्ल एकादशी का महात्म्य कहिए। श्रीकृष्ण कहने लगे कि हे धर्मराज! यही प्रश्न एक समय राजा दिलीप ने गुरु वशिष्ठजी से किया था और जो समाधान उन्होंने किया वो सब मैं तुमसे कहता हूँ।
  • प्राचीनकाल में भोगीपुर नामक एक नगर था। वहाँ पर अनेक ऐश्वर्यों से युक्त पुण्डरीक नाम का एक राजा राज्य करता था। भोगीपुर नगर में अनेक अप्सरा, किन्नर तथा गन्धर्व वास करते थे। उनमें से एक जगह ललिता और ललित नाम के दो स्त्री-पुरुष अत्यंत वैभवशाली घर में निवास करते थे। उन दोनों में अत्यंत स्नेह था, यहाँ तक कि अलग-अलग हो जाने पर दोनों व्याकुल हो जाते थे।
  • एक समय पुण्डरीक की सभा में अन्य गंधर्वों सहित ललित भी गान कर रहा था। गाते-गाते उसको अपनी प्रिय ललिता का ध्यान आ गया और उसका स्वर भंग होने के कारण गाने का स्वरूप बिगड़ गया। ललित के मन के भाव जानकर कार्कोट नामक नाग ने पद भंग होने का कारण राजा से कह दिया। तब पुण्डरीक ने क्रोधपूर्वक कहा कि तू मेरे सामने गाता हुआ अपनी स्त्री का स्मरण कर रहा है।
  • अत: तू कच्चा माँस और मनुष्यों को खाने वाला राक्षस बनकर अपने किए कर्म का फल भोग। पुण्डरीक के श्राप से ललित उसी क्षण महाकाय विशाल राक्षस हो गया। उसका मुख अत्यंत भयंकर, नेत्र सूर्य-चंद्रमा की तरह प्रदीप्त तथा मुख से अग्नि निकलने लगी। उसकी नाक पर्वत की कंदरा के समान विशाल हो गई और गर्दन पर्वत के समान लगने लगी। सिर के बाल पर्वतों पर खड़े वृक्षों के समान लगने लगे तथा भुजाएँ अत्यंत लंबी हो गईं।
  • कुल मिलाकर उसका शरीर आठ योजन के विस्तार में हो गया। इस प्रकार राक्षस होकर वह अनेक प्रकार के दुःख भोगने लगा। जब उसकी प्रियतमा ललिता को यह वृत्तान्त मालूम हुआ तो उसे अत्यंत खेद हुआ और वह अपने पति के उद्धार का यत्न सोचने लगी। वह राक्षस अनेक प्रकार के घोर दुःख सहता हुआ घने वनों में रहने लगा। उसकी स्त्री उसके पीछे-पीछे जाती और विलाप करती रहती।
  • एक बार ललिता अपने पति के पीछे घूमती-घूमती विन्ध्याचल पर्वत पर पहुँच गई, जहाँ पर श्रृंगी ऋषि का आश्रम था। ललिता शीघ्र ही श्रृंगी ऋषि के आश्रम में गई और वहाँ जाकर विनीत भाव से प्रार्थना करने लगी। उसे देखकर श्रृंगी ऋषि बोले कि हे सुभगे! तुम कौन हो और यहाँ किस लिए आई हो? ‍ललिता बोली कि हे मुने! मेरा नाम ललिता है। मेरा पति राजा पुण्डरीक के श्राप से विशालकाय राक्षस हो गया है। इसका मुझको महान दुःख है। उसके उद्धार का कोई उपाय बतलाइए।
  • श्रृंगी ऋषि बोले हे गंधर्व कन्या! अब चैत्र शुक्ल एकादशी आने वाली है, जिसका नाम कामदा एकादशी है। इसका व्रत करने से मनुष्य के सब कार्य सिद्ध होते हैं। यदि तू कामदा एकादशी का व्रत कर उसके पुण्य का फल अपने पति को दे तो वह शीघ्र ही राक्षस योनि से मुक्त हो जाएगा और राजा का श्राप भी अवश्यमेव शांत हो जाएगा। मुनि के ऐसे वचन सुनकर ललिता ने चैत्र शुक्ल एकादशी आने पर उसका व्रत किया और द्वादशी को ब्राह्मणों के सामने अपने व्रत का फल अपने पति को देती हुई भगवान से इस प्रकार प्रार्थना करने लगी –
  • हे प्रभो! मैंने जो यह व्रत किया है इसका फल मेरे पतिदेव को प्राप्त हो जाए जिससे वह राक्षस योनि से मुक्त हो जाए। एकादशी का फल देते ही उसका पति राक्षस योनि से मुक्त होकर अपने पुराने स्वरूप को प्राप्त हुआ। फिर अनेक सुंदर वस्त्राभूषणों से युक्त होकर ललिता के साथ विहार करने लगा। उसके पश्चात वे दोनों विमान में बैठकर स्वर्गलोक को चले गए।
  • वशिष्ठ मुनि कहने लगे कि हे राजन्! इस व्रत को विधिपूर्वक करने से समस्त पाप नाश हो जाते हैं तथा राक्षस आदि की योनि भी छूट जाती है। संसार में इसके बराबर कोई और दूसरा व्रत नहीं है। इसकी कथा पढ़ने या सुनने से वाजपेय यज्ञ का फल प्राप्त होता है।

कामिका एकादशी की आरती / Kamika Ekadashi Aarti

॥ एकादशी माता की आरती ॥

ॐ जय एकादशी, जय एकादशी,जय एकादशी माता।

विष्णु पूजा व्रत को धारण कर,शक्ति मुक्ति पाता॥

ॐ जय एकादशी…॥

तेरे नाम गिनाऊं देवी,भक्ति प्रदान करनी।

गण गौरव की देनी माता,शास्त्रों में वरनी॥

ॐ जय एकादशी…॥

मार्गशीर्ष के कृष्णपक्ष की उत्पन्ना,विश्वतारनी जन्मी।

शुक्ल पक्ष में हुई मोक्षदा,मुक्तिदाता बन आई॥

ॐ जय एकादशी…॥

पौष के कृष्णपक्ष की,सफला नामक है।

शुक्लपक्ष में होय पुत्रदा,आनन्द अधिक रहै॥

ॐ जय एकादशी…॥

नाम षटतिला माघ मास में,कृष्णपक्ष आवै।

शुक्लपक्ष में जया, कहावै,विजय सदा पावै॥

ॐ जय एकादशी…॥

विजया फागुन कृष्णपक्ष मेंशुक्ला आमलकी।

पापमोचनी कृष्ण पक्ष में,चैत्र महाबलि की॥

ॐ जय एकादशी…॥

चैत्र शुक्ल में नाम कामदा,धन देने वाली।

नाम बरुथिनी कृष्णपक्ष में,वैसाख माह वाली॥

ॐ जय एकादशी…॥

शुक्ल पक्ष में होयमोहिनी अपरा ज्येष्ठ कृष्णपक्षी।

नाम निर्जला सब सुख करनी,शुक्लपक्ष रखी॥

ॐ जय एकादशी…॥

योगिनी नाम आषाढ में जानों,कृष्णपक्ष करनी।

देवशयनी नाम कहायो,शुक्लपक्ष धरनी॥

ॐ जय एकादशी…॥

कामिका श्रावण मास में आवै,कृष्णपक्ष कहिए।

श्रावण शुक्ला होयपवित्रा आनन्द से रहिए॥

ॐ जय एकादशी…॥

अजा भाद्रपद कृष्णपक्ष की,परिवर्तिनी शुक्ला।

इन्द्रा आश्चिन कृष्णपक्ष में,व्रत से भवसागर निकला॥

ॐ जय एकादशी…॥

पापांकुशा है शुक्ल पक्ष में,आप हरनहारी।

रमा मास कार्तिक में आवै,सुखदायक भारी॥

ॐ जय एकादशी…॥

देवोत्थानी शुक्लपक्ष की,दुखनाशक मैया।

पावन मास में करूंविनती पार करो नैया॥

ॐ जय एकादशी…॥

परमा कृष्णपक्ष में होती,जन मंगल करनी।

शुक्ल मास में होयपद्मिनी दुख दारिद्र हरनी॥

ॐ जय एकादशी…॥

जो कोई आरती एकादशी की,भक्ति सहित गावै।

जन गुरदिता स्वर्ग का वासा,निश्चय वह पावै॥

ॐ जय एकादशी…॥

कामिका एकादशी पूजा विधि / Kamika Ekadashi Puja Vidhi

  • कामिका एकादशी के व्रत की विधि भी दशमी तिथि से ही प्रारम्भ हो जाती है।
  • एकदशी के व्रत को रखने वाले साधक को सात्विक भोजन करना चाहिए।
  • व्रत करने वाले जातक को व्रत के दिन अपनी वाणी पर नियंत्रण रखना चाहिए।
  • एकादशी के व्रत के दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि से निवृत्त हो जाना चाहिए।
  • उसके बाद भगवान श्री हरी विष्णु जी की पूजा करनी चाहिए।
  • पूजा के अंतर्गत धूप, दीप, फल, फूल एवं नैवेद्य का प्रयोग करना उत्तम माना गया है।
  • व्रत रखने वाले व्यक्ति को एकादशी की कथा अवश्य पढ़नी या सुननी चाहिए।
  • तत्पश्चात भगवान विष्णु के मन्त्र ‘ॐ नमो भगवते वासुदेवाय’ का जाप करना चाहिए तथा विष्णुसहस्रनाम का पाठ भी करना उत्तम होता है।
  • शास्त्रों के अनुसार कामिका एकादशी का व्रत रखने वाले भक्त को रात में जागरण करना चाहिए ऐसा करने से उसे मोक्ष की प्राप्ति हो जायेगी।

कामिका एकादशी का महत्व / Kamika Ekadashi Ka Mahatva

एकादशी तिथि भगवान विष्णु को समर्पित है। सावन माह की कामिका एकादशी पर व्रत करने से भगवान विष्णु के साथ-साथ भगवान भोलेनाथ का भी विशेष आशीर्वाद प्राप्त होता है। मान्यता है कि इस दिन व्रत करने से जातक के सभी पाप नष्ट हो जाते हैं। धार्मिक पुराणों के अनुसार कामिका एकादशी का व्रत वाजपेय यज्ञ करने के समान है।

कामिका एकादशी के व्रत के प्रभाव से मनुष्य को मोक्ष की प्राप्ति होती है। एकादशी के दिन पूजा में भगवान विष्णु को पीले वस्त्र अर्पित करना चाहिए। एकादशी के दिन दान-पुण्य करना भी लाभकारी होता है क्योंकि इस दिन किए दान से पितरों को शांति मिलती है। इसीलिए इच्छानुसार थोड़ा-बहुत दान अवश्य करना चाहिए।

कहा जाता है कि जो भी जातक विधि-विधान के साथ यह व्रत करता है तो उसके जीवन में आने वाली सभी बाधाएं दूर हो जाती हैं। कामिका एकादशी का पूजन करने से पितरों का भी विशेष आशीर्वाद मिलता है। जो जातक यह व्रत करते हैं उनके जीवन में आने वाले सभी प्रकार के कष्ट दूर होते हैं तथा मोक्ष की प्राप्ति होती है।

कामिका एकादशी मुहूर्त 2022 / Kamika Ekadashi Shubh Muhurat 2022

कामिका एकादशी रविवार, जुलाई 24, 2022 को है।

25वाँ जुलाई को, पारण (व्रत तोड़ने का) समय – 05:05 ए एम से 07:44 ए एम

पारण तिथि के दिन द्वादशी समाप्त होने का समय – 04:15 पी एम

एकादशी तिथि प्रारम्भ – जुलाई 23, 2022 को 11:27 ए एम बजे

एकादशी तिथि समाप्त – जुलाई 24, 2022 को 01:45 पी एम बजे

नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करके आप कामिका एकादशी व्रत कथा / Kamika Ekadashi Vrat Katha in Hindi PDF को आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं।

कामिका एकादशी व्रत कथा | Kamika Ekadashi Vrat Katha pdf

कामिका एकादशी व्रत कथा | Kamika Ekadashi Vrat Katha PDF Download Link

REPORT THISIf the download link of कामिका एकादशी व्रत कथा | Kamika Ekadashi Vrat Katha PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If कामिका एकादशी व्रत कथा | Kamika Ekadashi Vrat Katha is a copyright material Report This. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

RELATED PDF FILES

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *