हजारी प्रसाद द्विवेदी का जीवन परिचय PDF

हजारी प्रसाद द्विवेदी का जीवन परिचय PDF Download

हजारी प्रसाद द्विवेदी का जीवन परिचय PDF download link is given at the bottom of this article. You can direct download PDF of हजारी प्रसाद द्विवेदी का जीवन परिचय for free using the download button.

हजारी प्रसाद द्विवेदी का जीवन परिचय PDF Summary

नमस्कार मित्रों, आज इस लेख के माध्यम से हम आप सभी के लिए हजारी प्रसाद द्विवेदी का जीवन परिचय PDF हिन्दी भाषा में प्रदान करने जा रहे हैं। हजारी प्रसाद द्विवेदी जी का पूरा नाम आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी था तथा इनके बचपन का नाम वैद्यनाथ द्विवेदी था। इनका जन्म उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के आरत दुबे का छपरा, ओझवलिया नामक गाँव में श्रावण शुक्ल एकादशी संवत् 1964 तदनुसार 19 अगस्त 1907 ई० को हुआ था।

यह अत्यंत ही प्रसिद्ध हिन्दी निबन्धकार तथा उपन्यासकार होने के साथ-साथ आलोचक भी थे। इसी के साथ उन्हें भक्तिकालीन साहित्य का भी अच्छा ज्ञान था। माना जाता है कि वह हिंदी, अंग्रेज़ी, संस्कृत तथा बाङ्ला भाषाओं में अत्यधिक ज्ञानी एवं विद्वान थे। इन्हें इनके जीवन में पद्म भूषण पुरुष्कार से भी सम्मानित किया गया था। हजारी प्रसाद द्विवेदी जी के पिता का नाम श्री अनमोल द्विवेदी तथा माता का नाम श्रीमती ज्योतिष्मती था। हजारी प्रसाद द्विवेदी जी का निधन 19 मई 1979 को दिल्ली में हुआ था।

हजारी प्रसाद द्विवेदी का जीवन परिचय PDF – Highlights

पूरा नाम आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी
बचपन का नाम वैद्यनाथ द्विवेदी
जन्म तिथि 19 अगस्त 1907
जन्म स्थान दुबे-का-छपरा, बलिया, (उत्तर प्रदेश)
मृत्यु तिथि 19 मई 1979
मृत्यु स्थान दिल्ली, भारत
आयु (मृत्यु के समय) 71 वर्ष
राष्ट्रीयता भारतीय
व्यवसाय उपन्यासकार, लेखक, निबंधकार, विद्वान, इतिहासकार, आलोचक
अवधि/काल आधुनिक काल
युग शुक्लोत्तर
शिक्षा बनारस हिंदू विश्वविद्यालय
भाषा शुद्ध संस्कृतनिष्ठ साहित्यिक खड़ी बोली
शैली विचारात्मक, समीक्षात्मक, भावात्मक, व्यंग्यात्मक, उद्धरणात्मक, गवेषणात्मक
पुरस्कार (1957 में पद्म भूषण), (1973 में साहित्य अकादमी पुरस्कार)
माता का नाम ज्योतिषमती द्विवेदी
पिता का नाम पंडित अनमोल द्विवेदी
पत्नी का नाम भगवती देवी

Dr Hazari Pasad Dwivedi Ka Jeevan Parichay in Hindi PDF

आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी एक भारतीय साहियकार थे। जिनकी हिंदी के साथ साथ बांग्ला और अंग्रेजी भाषाएं भी आती थी लेकिन उन्होंने साहित्यिक रचनाएं हिंदी भाषा में ही की। इनके आलोक पर्व नामक निबंध पर इनको साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला था।

हजारी प्रसाद द्विवेदी का प्रारंभिक जीवन और शिक्षा –

आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी का जन्म श्रावण शुक्ल एकादशी संवत् 1964 को बलिया उत्तरप्रदेश में हुआ। इनका परिवार पंडित होने के कारण संस्कृत में निपुण था इनके पिताजी पंडित अनमोल द्विवेदी एक संस्कृत के विद्वान थे। इनका बचपन में नाम वैद्यनाथ द्विवेदी रखा गया था। साल 1927 में हजारी जी का विवाह भगवती देवी से हुआ।

शिक्षा – 

आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी की प्रारंभिक शिक्षा अपने गांव से ही हुई और बाद में इन्होंने 1920 में बसरिकापुर के मध्यम विद्यालय से प्रथम श्रेणी से पास हुए। और बाद ने इन्होंने पराशर ब्रह्मचर्य आश्रम से संस्कृत का अध्ययन शुरू किया। बाद में साल 1923 में हजारी जी रणवीर संस्कृत पाठशाला काशी में प्रवेश लिया, और अपनी उच्चतम शिक्षा काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से 1927 में पूर्ण की।

1929 में उन्होंने इंटरमीडिएट और संस्कृत साहित्य में शास्त्री की परीक्षा से उपाधि हासिल की। और 1930 में ज्योतिष विषय में आचार्य की उपाधि ली। साल 8 नवम्बर 1930 को आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी ने शांति निकेतन से आचार्य क्षितिमोहन सेन और गुरुदेव रविंद्रनाथ ठाकुर की छत्रछाया से हिंदी का अध्ययन शुरू किया।

20 वर्षो तक हिंदी का गहन अध्ययन करने के बाद दिवेदी जी जुलाई 1950 को काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में प्रोफेसर और हिंदी के अध्यक्ष बन गए। इनको 1957 में भारत सरकार ने पद्म भूषण पुरस्कार दिया गया। साल 1960 में आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी जी को काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से निकाल दिया गया और तुरंत ही उन्होंने पंजाब विश्वविद्यालय में हिंदी प्रोफेसर और अध्यक्ष का कार्यभार संभाला।

लेकिन इसके 7 साल बाद ही आचार्य जी अक्टूबर 1967 में काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में लौटे, और साल 1968 में इन्हे विश्वविद्यालय के रेक्टर पद पर पहुंचे और बाद ने 25 फरवरी 1970 को उन्होंने रिटायरमेट ले लिया। बाद में हजारी प्रसाद द्विवेदी 1972 से आजीवन उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ के उपाध्यक्ष बने रहे।

साल 1973 में उन्हे आलोक पर्व पर साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। 19 मई 1979 को ब्रेन ट्यूमर से आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी जी की निधन हो गया।

हज़ारी प्रसाद द्विवेदी
जन्म 19 अगस्त 1907
आरत दुबे का छपरा (ओझवलिया) ग्राम बलिया, भारत
मृत्यु 19 मई 1979
दिल्ली, भारत
व्यवसाय लेखक, आलोचक, प्राध्यापक
राष्ट्रीयता भारतीय
अवधि/काल आधुनिक काल
विधा हिन्दी निबन्धकार, आलोचक और उपन्यासकार

हजारी प्रसाद द्विवेदी जी की रचनाएं

आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी ने अपने जीवनकाल में अनेक रचनाएं की जिनमें से कुछ रचनाओं पर उन्हें पुरुष्कार भी मिला।

उनमें से कुछ रचनाएँ इस प्रकार हैं –

सूर साहित्‍य (1936) आधुनिक हिन्‍दी साहित्‍य पर विचार (1949) साहित्‍य का मर्म (1949)
हिन्‍दी साहित्‍य की भूमिका (1940) मेघदूत एक पुरानी कहानी (1957) लालित्‍य तत्त्व (1962)
प्राचीन भारत के कलात्मक विनोद (1952) कालिदास की लालित्‍य योजना (1965) साहित्‍य सहचर (1965)
कबीर (1942) हिन्दी साहित्य का उद्भव और विकास (1952) मध्‍यकालीन बोध का स्‍वरूप (1970)
नाथ संप्रदाय (1950) सहज साधना (1963) मृत्युंजय रवीन्द्र (1970)
हिन्‍दी साहित्‍य का आदिकाल (1952)

हजारी प्रसाद द्विवेदी निबंध संग्रह

अशोक के फूल (1948) कल्‍पलता (1951)
मध्यकालीन धर्मसाधना (1952) कुटज (1964)
विचार और वितर्क (1957) आलोक पर्व (1972) साहित्य अकादमी पुरुस्कार इसी पर मिला
विचार-प्रवाह (1959) चारु चंद्रलेख (1963)

आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी के निबंध

विश के दन्त नाखून क्यों बढ़ते हैैं वर्षा घनपति से घनश्याम तक
कल्पतरु अशोक के फूल मेरी जन्मभूमि
गतिशील चिंतन देवदारू घर जोड़ने की माया
साहित्य सहचर बसंत आ गया विचार और वितर्क (1954)

हजारी प्रसाद द्विवेदी के उपन्यासों के नाम

संक्षिप्‍त पृथ्‍वीराज रासो (1957) संदेश रासक (1960)
महापुरुषों का स्‍मरण (1977) सिक्ख गुरुओं का पुण्य स्मरण (1979)

हजारी प्रसाद द्विवेदी ग्रंथावली

साल 1981 में हजारी प्रसाद द्विवेदी जी की सभी रचनाओं का संकलन 11 खंडों में हजारीप्रसाद द्विवेदी ग्रन्थावली नाम से प्रकाशित किया गया। एक संस्करण के बाद हजारीप्रसाद द्विवेदी ग्रन्थावली का दूसरा संशोधित संस्करण साल 1998 ने प्रकाशित किया गया।

हिन्दी भाषा का वृहत् ऐतिहासिक व्याकरण

आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी जी ने व्याकरण के क्षेत्र में काम करके एक ग्रंथ हिन्दी भाषा का वृहत् ऐतिहासिक व्याकरण नाम से लिखा। और इस व्याकरण ग्रंथ की पांडुलिपियां बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय को दी गई लेकिन समय पर प्रकाशन ना होने के चलते वो पांडुलिपियां विश्वविद्यालय से गायब हो गई।

बाद ने हजारी प्रसाद द्विवेदी जी के पुत्र मुकुन्द द्विवेदी को इस व्याकरण ग्रंथ के पहले खंड की प्रतिकॉपी मिली। और बाद ने इसे 12 खंडों में प्रकाशित किया गया।

आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी की रचनाएं

शांतिनिकेतन से शिवालिक (शिवप्रसाद सिंह,1967) साहित्यकार और चिन्तक आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी (राममूर्ति त्रिपाठी, 1997) हजारीप्रसाद द्विवेदी (चौथीराम यादव, 2012)
दूसरी परम्परा की खोज (नामवर सिंह, 1982) आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी – व्यक्तित्व और कृतित्व (व्यास मणि त्रिपाठी, 2008) आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी की जय-यात्रा (नामवर सिंह)
हजारीप्रसाद द्विवेदी (विश्वनाथ प्रसाद तिवारी, 1989) व्योमकेश दरवेश (विश्वनाथ त्रिपाठी, 2011)

आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी के काव्य और रचनाओं की विशेषताएं

भाषा –

हजारी प्रसाद द्विवेदी जी की भाषा परमार्जित खड़ी बोली है। हजारी जी ने अपनी रचनाओं के लिए सही भाषा का प्रयोग किया है। इनकी भाषा शैली में दो तरह की भाषा प्रयोग की जाती है। पहली प्राँजल व्यावहारिक भाषा,और दूसरी संस्कृतनिष्ठ शास्त्रीय भाषा।

वर्ण्य विषय –

भारतीय संस्कृति, इतिहास, ज्योतिष, साहित्य विविध धर्मों का वर्णन किया। इसी आधार को लेकर आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी जी के निबंधों को 2 भागों में बांटा जाता है।

  • विचारात्मक
  • आलोचनात्मक

शैली

गवेषणात्मक शैली –

आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी ने अपनी विचारात्मक और आलोचनात्मक निबंध इसी शैली में लिखे हैं। इसमें संस्कृत और प्रांजल शब्दों की अधिकता मिलती है।

वर्णनात्मक शैली –

इसमें आचार्य जी ने हिंदी के शब्दो के साथ संस्कृत के तत्सम शब्द और उर्दू के शब्दो का प्रयोग भी किया है।

व्यंग्यात्मक शैली –

आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी जी ने व्यंग्यात्मक शैली में भी निबंध रचनाएं की है।

नीचे दिये गए डाउनलोड बटन पर क्लिक करके आप हजारी प्रसाद द्विवेदी का जीवन परिचय PDF Hindi भाषा में डाउनलोड कर सकते हैं।

हजारी प्रसाद द्विवेदी का जीवन परिचय pdf

हजारी प्रसाद द्विवेदी का जीवन परिचय PDF Download Link

REPORT THISIf the download link of हजारी प्रसाद द्विवेदी का जीवन परिचय PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If हजारी प्रसाद द्विवेदी का जीवन परिचय is a copyright material Report This. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

RELATED PDF FILES

Leave a Reply

Your email address will not be published.