गंगा मैया की आरती | Ganga Maiya Ki Aarti PDF in Hindi

गंगा मैया की आरती | Ganga Maiya Ki Aarti Hindi PDF Download

गंगा मैया की आरती | Ganga Maiya Ki Aarti in Hindi PDF download link is given at the bottom of this article. You can direct download PDF of गंगा मैया की आरती | Ganga Maiya Ki Aarti in Hindi for free using the download button.

Tags:

गंगा मैया की आरती | Ganga Maiya Ki Aarti Hindi PDF Summary

प्रिय पाठकों, इस लेख के माध्यम से आप श्री गंगा मैया की सुन्दर आरती की पीडीऍफ़ डाउनलोड कर सकते हैं। हिन्दू धर्म में गंगा मैया का बहुत अधिक महत्व है। माना जाता है कि माता गंगा जनकल्याण के लिए स्वर्गलोक से पृथ्वीलोक पर आयी हैं। माता गंगा को पृथ्वीलोक पर लाने का श्रेय भगीरथ जी को जाता है, वह भगवान् श्री राम जी के पूर्वज थे।

यह गंगा मैया की बहुत प्रचलित आरती है जिसका गायन गंगा माँ से सम्बंधित विभिन्न अवसरों पर किया जाता है। यदि आप भी जीवन में गंगा माँ की तरह निर्मल रहना चाहते हैं, तो आपको इस आरती का गायन अवश्य करना चाहिए। गंगा मैया की यह आरती ऋषिकेश पर भी की जाती है। आप यही जानते ही होंगे की हरिद्वार की गंगा आरती भारत समेत पूरे विश्व में प्रसिद्द है। आप भी इस आरती को घर में करके इसका लाभ उठा सकते हैं।

 

गंगा माता जी की आरती / Ganga Ji Ki Aarti PDF

ॐ जय गंगे माता,मैया जय गंगे माता।

जो नर तुमको ध्याता,मनवांछित फल पाता॥

ॐ जय गंगे माता॥

 

चन्द्र-सी ज्योति तुम्हारी,जल निर्मल आता।

शरण पड़े जो तेरी,सो नर तर जाता॥

ॐ जय गंगे माता॥

 

पुत्र सगर के तारे,सब जग को ज्ञाता।

कृपा दृष्टि हो तुम्हारी,त्रिभुवन सुख दाता॥

ॐ जय गंगे माता॥

 

एक बार जो प्राणी,शरण तेरी आता।

यम की त्रास मिटाकर,परमगति पाता॥

ॐ जय गंगे माता॥

 

आरती मातु तुम्हारी,जो नर नित गाता।

सेवक वही सहज में,मुक्ति को पाता॥

ॐ जय गंगे माता॥

 

पवित्र गंगा स्तोत्रम / Ganga Stotram in Hindi PDF

 

देवि सुरेश्वरि भगति गंगे त्रिभुवनतारिणि तरलतरंगे ।

शंकरमौलिविहारिणि विमले मम मतिरास्तां तव पदकमले ।।1।।

 

भागीरथि सुखदायिनि मातस्तव जलमहिमा निगमे ख्यात: ।

नाहं जाने तव महिमानं पाहि कृपामयि मामज्ञानम ।।2।।

 

हरिपदपाद्यतरंगिणि गंगे हिमविधुमुक्ताधवलतरंगे ।

दूरीकुरू मम दुष्कृतिभारं कुरु कृपया भवसागरपारम ।।3।।

 

तव जलममलं येन निपीतं परमपदं खलु तेन गृहीतम ।

मातर्गंगे त्वयि यो भक्त: किल तं द्रष्टुं न यम: शक्त: ।।4।।

 

पतितोद्धारिणि जाह्रवि गंगे खण्डितगिरिवरमण्डितभंगे ।

भीष्मजननि हेमुनिवरकन्ये पतितनिवारिणि त्रिभुवनधन्ये ।।5।।

 

कल्पलतामिव फलदां लोके प्रणमति यस्त्वां न पतति शोके ।

पारावारविहारिणि गंगे विमुखयुवतिकृततरलापांगे ।।6।।

 

तव चेन्मात: स्रोत: स्नात: पुनरपि जठरे सोsपि न जात: ।

नरकनिवारिणि जाह्रवि गंगे कलुषविनाशिनि महिमोत्तुंगे ।।7।।

 

पुनरसदड़्गे पुण्यतरंगे जय जय जाह्रवि करूणापाड़्गे ।

इन्द्रमुकुट मणिराजितचरणे सुखदे शुभदे भृत्यशरण्ये ।।8।।

 

रोगं शोकं तापं पापं हर मे भगवति कुमतिकलापम ।

त्रिभुवनसारे वसुधाहारे त्वमसि गतिर्मम खलु संसारे ।।9।।

अलकानन्दे परमानन्दे कुरु करुणामयि कातरवन्द्ये ।

तव तटनिकटे यस्य निवास: खलु वैकुण्ठे तस्य निवास: ।।10।।

 

वरमिह: नीरे कमठो मीन: कि वा तीरे शरट: क्षीण: ।

अथवा श्वपचो मलिनो दीनस्तव न हि दूरे नृपतिकुलीन: ।।11।।

 

भो भुवनेश्वरि पुण्ये धन्ये देवि द्रवमयि मुनिवरकन्ये ।

गंगास्तवमिमममलं नित्यं पठति नरो य: सजयति सत्यम ।।12।।

 

येषां ह्रदये गंगाभक्तिस्तेषां भवति सदा सुख मुक्ति: ।

मधुराकान्तापंझटिकाभि: परमानन्द कलितललिताभि:

 

गंगास्तोत्रमिदं भवसारं वांछितफलदं विमलं सारम ।

शंकरसेवकशंकरचितं पठति सुखी स्तव इति च समाप्त: ।।

You can download Ganga Maiya Ki Aarti PDF in Hindi by clicking on the following download button.

गंगा मैया की आरती | Ganga Maiya Ki Aarti pdf

गंगा मैया की आरती | Ganga Maiya Ki Aarti PDF Download Link

REPORT THISIf the download link of गंगा मैया की आरती | Ganga Maiya Ki Aarti PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If गंगा मैया की आरती | Ganga Maiya Ki Aarti is a copyright material Report This. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

RELATED PDF FILES

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *