छठ पूजा कथा | Chhath Puja Katha PDF in Hindi

छठ पूजा कथा | Chhath Puja Katha Hindi PDF Download

छठ पूजा कथा | Chhath Puja Katha in Hindi PDF download link is given at the bottom of this article. You can direct download PDF of छठ पूजा कथा | Chhath Puja Katha in Hindi for free using the download button.

Tags:

छठ पूजा कथा | Chhath Puja Katha Hindi PDF Summary

Friends, here we have uploaded the Chhath Puja Katha PDF in Hindi / छठ पूजा कथा PDF for you. According to the Hindu calendar, Chhath Mahavrat is celebrated from Chaturthi to Saptami Tithi of Shukla Paksha of Kartik month. In this, Lord Suryadev is worshiped, especially Chhath fast is done to get a son. Worship is done on Chhath with the chanting of Chhathi Maiya. It is mainly celebrated in the states of Bihar, Jharkhand, Uttar Pradesh. Various diseases can be cured by worshiping the Sun. The bathing is done with Surya Puja. It also cures serious diseases like leprosy. Chhath festival is also celebrated for the long life and prosperity of family members and friends. Below we have also provided the download link for Chhath Puja Katha PDF in Hindi / छठ पूजा कथा PDF.

छठ पूजा कथा PDF | Chhath Puja PDF in Hindi

मान्यता है कि जब पांडव जुए में अपना सारा राजपाट हार गए, तब द्रौपदी ने छठ का व्रत रखा था। द्रोपदी के व्रत के फल से पांडवों को अपना राजपाट वापस मिल गया था। इसी तरह छठ का व्रत करने से लोगों के घरों में समृद्धि और सुख आता है। छठ मुख्य रूप से बिहार, झारखंड, उत्तरप्रदेश सहित कई क्षेत्रों में छठ का महत्व है।
छठ पूजा या सूर्य षष्ठी या छठ व्रत में सूर्य भगवान की पूजा होती है और धरती पर लोगों के सुखी जीवन के लिए सूर्य देव के प्रति आभार व्यक्त किया जाता है। सूर्य देव को ऊर्जा और जीवन शक्ति का देवता माना जाता है। इसलिए छठ पर्व पर समृद्धि के लिए पूजा की जाती है।

छठ पूजा विधि PDF | Surya Chhath Pooja Vidhi in Hindi PDF

कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की षष्टी तिथि के दिन निर्जला व्रत रखा जाता है। फिर व्रती अपने घर पर बनाए पकवानों और पूजन सामग्री लेकर आसपास के घाटों पर जाते हैं। घाट पर ईख का घर बनाकर बड़ा दीपक जलाएं। इसके बाद व्रती घाट में स्नान करते हैं और पानी में रहते हुए ही ढलते सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। फिर घरजाकर सूर्य भगवान का ध्यान करते हुए रात भर जागरण करें इसमें छठी माता के प्राचीन गीत गाए जाते हैं। सप्तमी तिथि यानी व्रत के चौथे और आखिरी दिन सूर्य उगने से पहले घाट पर पहुंचें। इस दौरान अपने साथ पकवानों की टोकरियां, नारियल और फल भी रखें। उगते हुए सूर्य को जल श्रद्धा से अर्घ्य दें। छठ व्रत की कथा सुनें और प्रसाद बांटे। आखिर में व्रती प्रसाद ग्रहण कर व्रत खोलें।

छठ के दिन सूर्योदय में उठना चाहिए।

व्यक्ति को अपने घर के पास एक झील, तालाब या नदी में स्नान करना चाहिए।

स्नान करने के बाद नदी के किनारे खड़े होकर सूर्योदय के समय सूर्य देवता को नमन करें और विधिवत पूजा करें।

शुद्ध घी का दीपक जलाएं और सूर्य को धुप और फूल अर्पण करें।

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर के आप Chhath Puja Katha PDF in Hindi / छठ पूजा कथा PDF मुफ्त में डाउनलोड कर सकते हैं।

छठ पूजा कथा | Chhath Puja Katha pdf

छठ पूजा कथा | Chhath Puja Katha PDF Download Link

REPORT THISIf the download link of छठ पूजा कथा | Chhath Puja Katha PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If छठ पूजा कथा | Chhath Puja Katha is a copyright material Report This. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

RELATED PDF FILES

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *