बहुला चौथ व्रत कथा PDF | Bahula Chauth Vrat Katha PDF in Hindi

Download PDF of बहुला चौथ व्रत कथा PDF | Bahula Chauth Vrat Katha in Hindi

बहुला चौथ व्रत कथा PDF | Bahula Chauth Vrat Katha PDF download link is given at the bottom of this article. You can direct download PDF of बहुला चौथ व्रत कथा PDF | Bahula Chauth Vrat Katha for free using the download button.

Tags:

बहुला चौथ व्रत कथा PDF | Bahula Chauth Vrat Katha PDF in Hindi

दोस्तों आज हम आपके लिए लेकर आएं हैं Bol/Bahula Chauth Vrat Katha Hindi PDF/ बहुला चौथ व्रत कथा PDF। सावन महीने में अनेकों त्यौहार आते है, जिनका पुजन हिन्दू समाज विधि विधान से करता है। सावन में ही एक त्यौहार आता है, बहुला चौथ या चतुर्थी इसे गुजरात में बोल चौथ के नाम से जानते है, जबकि मध्यप्रदेश में इसे बहुला चौथ कहते है। चतुर्थी तिथि को वैसे गणेश जी का दिन माना जाता है, लेकिन ये चतुर्थी कृष्ण चतुर्थी के नाम से व्यख्यात है। यह त्यौहार मुख्यतः किसान लोगों के द्वारा किया जाता है, इस दिन वे अपने पशु, मुख्यरूप से गाय, बैल की पूजा करते है। किसानों के जीवन में इन पशुओं का भी मुख्य स्थान होता है, उनकी वजह से वे सफल खेती कर पाते है, तो गायों और बछड़ों के कल्याण के लिए ये दिन मनाया जाता है। इस पोस्ट में हमने आपके लिए Bol/Bahula Chauth Vrat Katha Hindi PDF/ बहुला चौथ व्रत कथा PDF डाउनलोड लिंक भी दिया है।

बहुला चौथ व्रत कथा PDF | Bol/Bahula Chauth Vrat Katha Hindi PDF

विष्णु जी जब कृष्ण रूप में धरती में आये थे, तब उनकी बाल लीलाएं सभी देवी देवता को भाती थी. गोपियों के साथ उनकी रास लीला हो या माखन चोरी कर खाना, इन सभी बातों से वे सबका मन मोह लेते थे. कृष्ण जी लीलाओं को देखने के लिए कामधेनु जाति की गाय ने बहुला के रूप में नन्द की गोशाला में प्रवेश किया. कृष्ण जी को यह गाय बहुत पसंद आई, वे हमेशा उसके साथ समय बिताते थे. बहुला का एक बछड़ा भी था, जब बहुला चरने के लिए जाती तब वो उसको बहुत याद करता था.

एक बार जब बहुला चरने के लिए जंगल गई, चरते चरते वो बहुत आगे निकल गई, और एक शेर के पास जा पहुंची. शेर उसे देख खुश हो गया और अपना शिकार बनाने की सोचने लगा. बहुला डर गई, और उसे अपने बछड़े का ही ख्याल आ रहा था. जैसे ही शेर उसकी ओर आगे बढ़ा, बहुला ने उससे बोला कि वो उसे अभी न खाए, घर में उसका बछड़ा भूखा है, उसे दूध पिलाकर वो वापस आ जाएगी, तब वो उसे अपना शिकार बना ले. शेर ये सुन हंसने लगा, और कहने लगा मैं कैसे तुम्हारी इस बात पर विश्वास कर लूँ. तब बहुला ने उसे विश्वास दिलाया और कसम खाई कि वो जरुर आएगी.

बहुला वापस गौशाला जाकर बछड़े को दूध पिलाती है, और बहुत प्यार कर, उसे वहां छोड़, वापस जंगल में शेर के पास आ जाती है. शेर उसे देख हैरान हो जाता है. दरअसल ये शेर के रूप में कृष्ण होते है, जो बहुला की परीक्षा लेने आते है. कृष्ण अपने वास्तविक रूप में आ जाते है, और बहुला को कहते है कि मैं तुमसे बहुत प्रसन्न हुआ, तुम परीक्षा में सफल रही. समस्त मानव जाति द्वारा सावन महीने के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी के दिन तुम्हारी पूजा अर्चना की जाएगी और समस्त जाति तुम्हे गौमाता कहकर संबोधित करेगी. कृष्ण जी ने कहा कि जो भी ये व्रत रखेगा उसे सुख, समृद्धि, धन, ऐश्वर्या व संतान की प्राप्ति होगी.

बहुला चौथ का व्रत सावन महीने में आता है, इस समय मानसून रहता है, और हर जगह बहुत अधिक बारिश होती है. इस त्यौहार के द्वारा सभी पशुओं की सुरक्षा की प्राथना की जाती है, ताकि वे अधिक बारिश, बाढ़ में सुरक्षित रह सकें. कृषिप्रधान देश में अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने में मवेशियों का भी महत्वपूर्ण स्थान होता है.

बहुला चौथ व्रत पूजा विधि | Bahula Chauth Vrat Puja Vidhi

  • इस दिन पूरा दिन का व्रत होता है, जो शाम को पूजा के बाद खोला जाता है.
  • इस दिन मिट्टी से गाय एवं बछड़ा बनाया जाता है, कुछ लोग सोने एवं चांदी के बनवाकर उसकी पूजा करते है.
  • शाम को सूर्यास्त के पश्चात् इन गाय, बछड़े की पूजा की जाती है, साथ ही गणेश एवं कृष्ण जी की पूजा की जाती है.
  • कुछ लोग ज्वार एवं बाजरा से बनी वस्तु भोग में चढ़ाते और बाद में उसे ही ग्रहण करते है.
  • पूजा के बाद बहुला चौथ की कथा को शांति से सुनना चाहिए.
  • गुजरात में इस दिन खाना, खुले आसमान के नीचे तैयार किया जाता है, और वही बैठकर सब खाते है.
  • मध्यप्रदेश में इस दिन उड़द दाल से बनने वाले बड़ा का सेवन किया जाता है, वहां उस दिन उड़द दाल से बना भोग ही औरतें ग्रहण करती है.
  • इस दिन दूध और उससे बनी चीजें जैसे चाय, काफी, दही, मिठाइयाँ खाना बिलकुल माना होता है.
  • कहते है जो यह व्रत रखता है, उसे संकट से आजादी मिलती है, साथ ही उसे संतान की प्राप्ति होती है. इस व्रत से धन ऐश्वर्या मिलता है.
  • पूजा अर्चना के बाद, मिट्टी से बने गाय बछड़े के जोड़े को किसी नदी या तालाब में सिरा दिया जाता है.

बहुला चौथ का महत्त्व (Bahula Chauth/ Bol Chauth Vrat) –

बहुला चौथ मुख्य रूप से गुजरात राज्य में कृषक समुदाय द्वारा मनाया जाता है। बहुला चौथ का त्यौहार भगवान कृष्ण के अनुयायी मुख्य रूप से मनाते है. इस दिन गाय, बछड़े की पूजा की जाती है, और कृष्ण जी के जीवन में गायों का बहुत महत्व था, वे खुद एक गाय चराने वाले थे, जो गौ की माता की तरह पूजते थे.

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर के आप Bol/Bahula Chauth Vrat Katha Hindi PDF/ बहुला चौथ व्रत कथा PDF डाउनलोड कर सकते हैं।

बहुला चौथ व्रत कथा PDF | Bahula Chauth Vrat Katha pdf

बहुला चौथ व्रत कथा PDF | Bahula Chauth Vrat Katha PDF Download Link

REPORT THISIf the download link of बहुला चौथ व्रत कथा PDF | Bahula Chauth Vrat Katha PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If बहुला चौथ व्रत कथा PDF | Bahula Chauth Vrat Katha is a copyright material Report This. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

2 thoughts on “बहुला चौथ व्रत कथा PDF | Bahula Chauth Vrat Katha

  1. I’m unable to download the pdf बहुला चौथ व्रत कथा could you please send it on my gmail

    1. Sir below the page we have given a “Download PDF Now” to download the PDF you can use that button for download.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *