Ahoi Ashtami Katha Book PDF in Hindi

Ahoi Ashtami Katha Book Hindi PDF Download

Ahoi Ashtami Katha Book in Hindi PDF download link is given at the bottom of this article. You can direct download PDF of Ahoi Ashtami Katha Book in Hindi for free using the download button.

Ahoi Ashtami Katha Book Hindi PDF Summary

Dear Reader, here we have uploaded the Ahoi Ashtami Katha Book PDF in Hindi to help you. Ahoi Ashtami fast is observed on the eighth day of Kartik Krishna Paksha. Ahoi Mata (Parvati) is worshiped on this day. This time Ahoi Ashtami will be observed on Thursday, October 28. On this day, husband and wife who wish to have children also observe Ahoi Ashtami fast. Ahoi Ashtami fast is kept for the safety and long life of the children.

Mothers observe this fast for their children, so like Jivitputrika, this fast is also considered very important. It is believed that by observing the fast of Ahoi Ashtami and listening to the story, one gets the full fruit of the fast.

Ahoi Ashtami Katha Book PDF in Hindi

पूजा के दौरान साहूकार की कथा को पढ़ना या सुनना अनिवार्य बताया गया है. इस कथा के अनुसार प्राचीन काल में एक साहूकार के सात बेटे और सात बहुएं थीं. इस साहूकार की एक बेटी भी थी जो दीपावली में ससुराल से मायके आई थी. दीपावली पर घर को लीपने के लिए सातों बहुएं और बेटी मिट्टी लाने जंगल गईं. बेटी जहां मिट्टी काट रही थी उस स्थान पर स्याहु (साही) अपने सात बेटों से साथ रहती थी.

मिट्टी काटते हुए ग़लती से साहूकार की बेटी की खुरपी के चोट से स्याहु का एक बच्चा मर गया. स्याहु इस पर क्रोधित होकर बोली कि तुमने मेरे बच्चे को मारा है, अब मैं तुम्हारी कोख बांध दूंगी. स्याहू की बात से डरकर साहूकार की बेटी अपनी सातों भाभियों से बचाने की गुहार लगाने लगी और भाभियों से विनती करने लगी कि वे उसकी जगह पर अपनी कोख बंधवा लें. सातों भाभियों में से सबसे छोटी भाभी को अपनी ननद पर तरस आ गया और वो उसने स्याहु से कहा कि आप मेरी कोख बांधकर अपने क्रोध को समाप्त कर सकती हैं.

स्याहु ने उसकी कोख बांध दी. इसके बाद छोटी भाभी के जो भी बच्चे हुए, वे जीवित नहीं बचे. सात दिन बाद उनकी मौत हो जाती थी. इसके बाद उसने पंडित को बुलवाकर इसका उपाय पूछा गया तो पंडित ने सुरही गाय की सेवा करने की सलाह दी. सुरही सेवा से प्रसन्न होती है और छोटी बहू से पूछती है कि तू किस लिए मेरी इतनी सेवा कर रही है. तब छोटी बहू कहती है कि स्याहु माता ने मेरी कोख बांध दी है जिससे मेरे बच्चे नहीं बचते हैं. आप मेरी कोख खुलवा दें तो आपकी बहुत मेहरबानी होगी.

सेवा से प्रसन्न सुरही छोटी बहु को स्याहु माता के पास ले जाती है. वहां जाते समय रास्ते में दोनों थक कर आराम करने लगते हैं. अचानक साहूकार की छोटी बहू देखती है कि एक सांप गरूड़ पंखनी के बच्चे को डंसने जा रहा है. तभी छोटी बहू सांप को मार देती है. इतने में गरूड़ पंखनी वहां आ जाती है और अपने बच्चे को जीवित देखकर प्रसन्न होती है. इसके बाद वो छोटी बहू और सुरही को स्याहु माता के पास पहुंचा देती है. वहां जाकर छोटी बहू स्याहु माता की सेवा करती है. इससे प्रसन्न स्याहु माता, उसे सात पुत्र और सात बहुओं से समृद्ध होने का का आशीर्वाद देती हैं और घर जाकर अहोई माता का व्रत रखने के लिए कहती हैं. इसके प्रभाव से छोटी बहू का परिवार पुत्र और बहुओं से भर जाता है.

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर के आप Ahoi Ashtami Katha Book PDF in Hindi मुफ्त में डाउनलोड कर सकते है।

Ahoi Ashtami Katha Book pdf

Ahoi Ashtami Katha Book PDF Download Link

REPORT THISIf the download link of Ahoi Ashtami Katha Book PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If Ahoi Ashtami Katha Book is a copyright material Report This. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

RELATED PDF FILES

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *