आधुनिक कृषि के प्रभाव PDF

आधुनिक कृषि के प्रभाव PDF Download

आधुनिक कृषि के प्रभाव PDF download link is given at the bottom of this article. You can direct download PDF of आधुनिक कृषि के प्रभाव for free using the download button.

आधुनिक कृषि के प्रभाव PDF Summary

प्रिय पाठकों, इस लेख के माध्यम से आप आधुनिक कृषि के प्रभाव PDF प्राप्त कर सकते हैं। भारत एक कृषि प्रधान देश कहलाया जाता है । कृषि मानव जीवन के लिए नितांत आवश्यक कार्य है । कृषि के माध्यम से न केवल मानुष के भोजन की व्यवस्था होती है अपितु यह एक आर्थिक विकास हेतु भी बहुत महत्वपूर्ण बिन्दु है ।
आधुनिकता के दौर में कृषि में बहुत अधिक परिवर्तन आया है । आधुनिक कृषि के प्रभाव सामाजिक जीवन पर भिन्न – भिन्न प्रकार से पड़ते हैं । यदि आप आज के समय की कृषि व्यवस्था पर दृष्टि डालेंगे तो न केवल इसे पारंपरिक कृषि से प्रथक पाएंगे अपितु कहीं न कहीं कुछ समानताएं भी आपको दिखाई देंगी ।

आधुनिक कृषि के प्रभाव PDF

  • जैसा कि हम जानते हैं कि आधुनिक कृषि ने ना केवल भोजन की सामर्थ्य तथा जैव ईंधन का उत्पादन को बढाया है लेकिन साथ-साथ ही हमारी पर्यावरणीय समस्याओं को भी बढाया है
  • क्युकी इस कृषि पद्दति में ज्यादा उपज देने वाली विविधता के संकर बीज और प्रचुर मात्रा में सिंचाई जल, उर्वरक और कीटनाशकों का उपयोग होता है।
  • आधुनिक कृषि कैसे पर्यावरण पर प्रभाव डालती है नीचे चर्चा की गई है:

भू-क्षरण
भूमि के कणों का अपने मूल स्थान से हटने एवं दूसरे स्थान पर एकत्र होने की क्रिया को भू-क्षरण या मृदा अपरदन कहते हैं।  आधुनिक कृषि में अत्यधिक जल आपूर्ति के कारण खेत के ऊपर की उपजाऊ मिट्टी का निष्कासन हो जाता है। जिसकी वजह से मिट्टी की पोषक तत्वों कम होने लगते हैं और मिट्टी की उर्वरता की कमी के कारण उत्पादकता कम हो जाती है। यह ग्लोबल वार्मिंग को भी बढाता है क्युकी अत्यधिक जल आपूर्ति के कारण जल निकायों की गाद के कारण मृदा कार्बन वायुमंडल में उत्सर्जित हो जाता है।
भूमि-जल का प्रदूषित होना
भूमि-जल, सिंचाई के लिए महत्वपूर्ण स्रोतों में से एक है। आधुनिक कृषि में अत्याधिक नाइट्रोजन उर्वरक के इस्तेमाल से मिट्टी में नाइट्रेट के स्तर को बढ़ावा मिलता है जो भूमि-जल को दूषित कर देता है। अगर नाइट्रेट का स्तर भूमि जल में  25 mg/L से अधिक हो जाये तो गंभीर बीमारी हो सकती है जैसे की ब्लू बेबी सिंड्रोम (Blue Baby Syndrome), जो ज्यादातर शिशुओं के स्वास्थ्य को प्रभावित करते हैं।

कृषि के लिए जल निकासी का उचित प्रबंधन करना बहुत महत्वपूर्ण है लेकिन किसान उत्पादकता बढ़ाने के चक्कर में अत्याधिक जल आपूर्ति करने लगते हैं जिसकी वजह से जल-जमाव हो जाता है जो मिट्टी के लवणता बढाता है और मिट्टी की उत्पादकता कम हो जाती है।
सुपोषण
जब किसी भी जलाशय या जल श्रोत को कृत्रिम या गैर-कृत्रिम पदार्थों जैसे नाइट्रेट्स और फॉस्फेट से समृद्ध किया जाता है तो सुपोषण (Eutrophication)  कहलाता है। इस समृद्धकरण के कारण जल में बायोमास अत्याधिक हो जाता जिसके वजह जल में ऑक्सीजन की मात्रा कम हो जाती है।
कीटनाशक के अत्याधिक उपयोग

  • आधुनिक कृषि में कीटनाशकों को नष्ट करने और फसल उत्पादन बढ़ाने के लिए कई कीटनाशकों का उपयोग किया जाता है। जैसे – पहले कीटों को मारने के लिए आर्सेनिक, सल्फर, सीसा और पारा का इस्तेमाल किया गया था।
  • फिर बाद में किटनाशक Dichloro Diphenyl Trichloroethane (DDT) का इस्तेमाल किया गया लेकिन यह हानिकारक कीट के साथ लाभकारी कीट को भी नष्ट कर देता था। ये कीटनाशक बायोडिग्रेडेबल होते हैं जो मानव के खाद्य श्रृंखला में जुड़े जाते है जो मानव स्वास्थ्य के लिए बहुत ही हानिकारक है। इसलिए आज के दौर में कृषि के लिए जैविक खाद के इस्तेमाल पर जोर दिया जा रहा है।
  • इसलिए कृषि में आधुनिकता के लिए आधुनिक एग्रोनोमी के माध्यम से पौधों में संकरण, कीटनाशकों का इस्तेमाल और मिट्टी की उर्वरता को बढ़ाने के लिए तकनिकी सुधार किये जा रहे हैं जिससे कृषि उत्पादन को बढाया जा सके और साथ ही साथ मनुष्य के स्वास्थ्य पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़े।
You can download आधुनिक कृषि के प्रभाव PDF by clicking on the following download button.
आधुनिक कृषि के प्रभाव pdf

आधुनिक कृषि के प्रभाव PDF Download Link

REPORT THISIf the download link of आधुनिक कृषि के प्रभाव PDF is not working or you feel any other problem with it, please Leave a Comment / Feedback. If आधुनिक कृषि के प्रभाव is a copyright material Report This. We will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

RELATED PDF FILES

Leave a Reply

Your email address will not be published.